Lifestyle

Pradosh Vrat 2021 On Trayodashi Date Of Krishna Paksha Of Ashadh Month Know The Auspicious Time

प्रदोष व्रत जुलाई 2021: प्रदोष व्रत शिव को समर्पण है। इस व्यक्ति की विशेष पूजा की जाती है। प्रदोष व्रत करने के लिए रोग की तरह जैसे क्रिया में जैसे जैसे रोग होते हैं, वैसे ही वे निष्क्रिय में होते हैं। समृद्धि के साथ खुशहाली बनी रहे।

पंचांग के आकार 07 नवंबर 2021 को आषाढ़ मास की कृष्ण की त्रयोदशी तिथि तिथि है। इस दिन प्रदोष व्रत . शिवभक्त इस व्रत को भाव से ்த் ்ி் ்ி். ????????????????????????????????

प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त

  • आषाढ़ कृष्ण क्षत्रयोदशी तिथि प्रारंभ : 07 जुलाई 2021 शाम 01 बजकर 02 से
  • आषाढ़ कृष्ण क्षत्रयोदशी तिथि समाप्त: 08 नवंबर 2021 शाम 03 बजकर 20 पर
  • प्रदोष व्रत पूजा का शुभ समय: प्रदोष का शाम 07:12 बजे से 9:20 बजे तक

प्रदोष व्रत की विधि
प्रदोष व्रत की पूजा विधि, पूर्ण आनंद प्राप्त करने के लिए. प्रदोष व्रत की पूजा शुरू करने से पूर्व प्रीति: कल पूर्ण होने के बाद कार्य पूर्ण कर, पूजा शुरू होने से पहले। विषिश्वक शिव के विष्वास का संकल्प लें। बैल पोस्टिंग से बैलिंग से शिव के लिए मण्डप में शिव की स्थापना करें। लहसुन बनाने से स्वस्वास्थ्य बनता है। प्रभात: शिव को भोजन का भोजन. बेलपत्र, भांग, धतूरा, मदार पुष्प, पंचगव्य आदि।

शिव मंत्रों का जाप करें
प्रदोष व्रत में शिव मंत्र का जाप सही किया गया। इस दिन शिव के पंचाक्षर मंत्र का जाप करना चाहिए। प्रदोष व्रत का परावर्तन तिथि तिथि में तिथि बदली करें. इस दिन आदि का विशेष महत्व है।

04 जुलाई 2021 का शुभ मुहूर्त, ग्रह काल का समय, ग्रह वक्री

आषाढ़ मास 2021: आषाढ़ मास का महत्व, इस बात का ध्यान रखना चाहिए

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button