Lifestyle

Pradosh Vrat 2021 July Date Time Importance Pradosh Vrat Is On 07 July Know Auspicious Time And Puja Vidhi

प्रदोष व्रत 2021 जुलाई तिथि समय महत्व: पंचांग के हिसाब से 07 जुलाई 2021, गुरुवार को मास के कृष्ण की त्रयोदशी तिथि है। को दिना दिन व्रत का इस दिन है. प्रदोष शिव को प्रसन्न करने के लिए प्रसन्न होने के लिए, प्रसन्न होने वाले व्यक्ति शिव की पूजा करने से सभी प्रकार के मनोकामनाएं पूर्ण होते हैं।

प्रदोष व्रत की पूजा का महत्व
07 नवंबर 2021 को आषाढ़ मास का पहला प्रदोष व्रत है। आषाढ़ मास में शिव की पूजा को विशेष रूप से प्रभावित किया गया है। आषाढ़ मास के बाद श्रावण माहवारी है, श्रावण मास को सावन का भी ऐसा ही कहा जाता है। सावन का गोष्ठी शिव की पूजा के लिए अतिउत्तम है। प्रदोष व्रत में शिव की पूजा जीवन में दात्य जीवन से भी है। प्रसन्नता के लिए यह अच्छा है कि आप प्रसन्न हों, और अपने आप को प्रसन्न करें।

प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त
आषाढ़ कृष्ण शुक्ल पक्ष योदशी तिथि की शुरुआत : 07 नवंबर 2021 शाम 01 बजकर 02 से
आषाढ़ कृष्ण क्षत्रयोदशी तिथि का सत्यापन: 08 नवंबर 2021 शाम 03 बजकर 20 पर
प्रदोष व्रत पूजा का शुभ समय: प्रदोष का शाम 07:12 बजे से 9:20 बजे तक

प्रदोष व्रत की विधि
प्रसन्न होने के लिए असामान्य है. दिन ️ प्रसन्न️ मुद्रा️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है पर है पर है. प्रदोष व्रत के बाद सूर्योदय हुआ। का संकल्प के बाद के संदेश के बाद शिव को प्रिय प्रभात का भोजन भोज। जय शिव का अभिषेक करें। विधि ️पूर्वक️ अभिषेक️️️️️️

शिव आरती का पाठ:
प्रदोष व्रत में शिव मंत्र और शिव आरती का विशेष महत्व है। शिव के इन मंत्रों का जाप सभी प्रकार के पासा है-

  • त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं स्थायीम्।
    उर्वारुकमिव प्रबंधन मृत मृत्युक्षीय मामृतात्॥
  • ऊँ नम: शिवाय…
  • तत्पुरुषाय विदमहे, महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्र: प्रचोदयात्।।

यह भी आगे:
सावन 2021: सावन का पहला सिर, शिव को इस प्रकार से, इन का ध्यान रखें

साप्ताहिक राशिफल 05 -11 जुलाई 2021: राशि के लोगों के लिए ये हफ्ता, सभी राशियों का इस ग्रह

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button