Panchaang Puraan

pitru paksha shradh 2021 rituals rules procedure upay remedies tips how to get rid of pitra dosh – Astrology in Hindi

पितृ पक्ष श्राद्ध 2021 : मंगल से पितृ पक्ष प्रारंभ हो गया। आश्विन के पूर्ण रूप से परिवार के सदस्य परिवार में प्रजनन के लिए जिम्मेदार थे। ज्योतिषाचार्य धर्मेंद्र झा कहते हैं कि मोक्षभूमि धाम में श्राद्ध और तर्पण का विशेष महत्व है। भविष्य में मृत्यु और आत्मरक्षा के लिए प्रेतयोनि आज भी। शुभ कार्य, ईशप्रार्थना और श्राद्धकर्म से मृत व्यक्ति को इस लोक से पितृलोक प्राप्त करें। ज्योतिष और पुराणों के अनुसार प्रेत। ️ योनि️ योनि️ योनि️ योनि️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ इच्छाएं अतिप्रभावी हैं। इस झूठ के पास पड़ोसी हैं। जहां पूजा-पाठ, गायत्रीप, ईश वंदना और देव मंदिर और तुलसी चौरा, श्रेष्ठ श्रेष्ठता। जब यह निष्क्रिय होता है, तो यह निष्क्रिय होता है I

मीन, कर्क, वृश्चिक राशि और धनु राशि पर मंगल देव मेहरबाण, सूर्य की किस्मत चमकेगी

जानें क्या हैं पितृदोष के

  • मरे हुए इंसान के शरीर में प्लेबैक के प्रकार खराब होते हैं जब हम शरीर में बदल जाते हैं. यह लक्षण हैं, घर में निरंतर बीमारी का आगमन, वंश में रूकावट, संतान का जन्म लेने के साथ मृत्यु, मानसिक अशांति, व्यापार में घाटा, विवाह में अवरोध, आकस्मिक दुर्घटना, घर में परिजनों को बराबर बुरा एवं डरावना सपना आना, कुछ भी संकट न हो, काम गंवाने वालों को छूट मिलेगी.

शांति के लिए उपाय करें

  • । घर के सभी संकट दूर हों। पूर्वजों तर्पण, जेवण, पिण्डदान और दक्षिणावर्त श्राद्ध अंग अंग होते हैं। पितृदोष और पूर्वजन्म के पापों से मुक्ति के लिए रुकाल में शिवपूजन कर सकते हैं। प्रत्येक अमावस्या पर पुत्रों का नाम विशेष पितृदोष को कोर्टिंग करना भी एक उपाय है। पितृदोष से मुक्ति के लिए दैहिक रूप से मृत होने का प्रबंधन प्रभावित हुआ है। गोकू राम ने भी धुंधम के फल्गु नदी तट पर अपने पिता महाराज दशरथ का तार और श्राद्ध था।

संबंधित खबरें

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button