Business News

Petrol Above Rs 100 in Delhi, Mumbai, Kolkata and Chennai. Why Petrol Price is Increasing

भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर हैं। (प्रतिनिधि फोटो)

तेल विपणन कंपनियों ने पिछले दो महीनों में पेट्रोल की कीमतों में कम से कम 36 गुना वृद्धि की है। 4 मई से ऑटो फ्यूल के रेट में करीब 9.50-10 रुपये की बढ़ोतरी की गई है

भारत के सभी चार मेट्रो शहरों – दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गई है। नवीनतम संशोधन के साथ, पेट्रोल की कीमत भारत में अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। राज्य द्वारा संचालित तेल विपणन कंपनियों ने पिछले दो महीनों में पेट्रोल की कीमतों में कम से कम 36 गुना वृद्धि की है। 4 मई से अब तक ऑटो फ्यूल के रेट में करीब 9.50-10 रुपये की बढ़ोतरी की गई है।

भारत में ऑटो ईंधन की कीमत अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतों, रुपये-डॉलर विनिमय दर पर निर्भर करती है। इसके अलावा, केंद्र सरकार और राज्य पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क और मूल्य वर्धित कर (वैट) जैसे विभिन्न कर लगाते हैं। ईंधन की कीमत में डीलर का कमीशन और भाड़ा शुल्क भी जोड़ा जाता है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि पेट्रोल और डीजल माल और सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में नहीं आते हैं।

दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल-डीजल पर आप कितना टैक्स देते हैं?

पेट्रोल:

आइए दिल्ली में 1 जुलाई को पेट्रोल की कीमत 98.81 रुपये प्रति लीटर पर विचार करें। सरकारी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल के मुताबिक पेट्रोल का बेस प्राइस 38.93 रुपये है। भाड़ा शुल्क ₹0.36 निर्धारित किया गया है। डीलर राजधानी में पेट्रोल के 39.29 रुपये का भुगतान करते हैं। इस कीमत में उत्पाद शुल्क या वैट शामिल नहीं है। पेट्रोल पर लगने वाला उत्पाद शुल्क 32.90 रुपये है। दिल्ली में डीलर कमीशन ₹3.82 प्रति लीटर है। इस पर 22.80 रुपये का और वैट जोड़ा जा रहा है। दिल्ली में वैट की हिस्सेदारी करीब 22 फीसदी है। इसके बाद दिल्ली में पेट्रोल का अंतिम खुदरा बिक्री मूल्य 98.81 प्रति लीटर आता है। (१ जुलाई को)।

डीजल की कीमतों में भी देश में भारी वृद्धि देखी गई।

केंद्र ने मार्च 2020 से मई 2020 के बीच पेट्रोल पर 13 रुपये और डीजल पर 16 रुपये उत्पाद शुल्क बढ़ाया। यह शुल्क अब डीजल पर 31.8 रुपये और पेट्रोल पर 32.9 रुपये है। वैट अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग होता है। मध्य प्रदेश, राजस्थान 30% से अधिक वैट लगाते हैं – राज्यों में सबसे अधिक। पेट्रोल और डीजल के लिए डीलर का चार्ज अलग-अलग है। कमीशन भी ईंधन पंपों के स्थान के साथ बदलता रहता है, 2-4 रुपये प्रति लीटर से लेकर।

सभी पढ़ें ताजा खबर, आज की ताजा खबर तथा कोरोनावाइरस खबरें यहां

.

Related Articles

Back to top button