Panchaang Puraan

People become sannyasis due to the yoga of this planet in their hands – Astrology in Hindi

हस्तरेखा में शुक्र ग्रह को कुशलता और कुशलता से काम किया गया है। पर्यावरण से जीवन में सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य में प्रभाव प्रभाव पड़ता है। शुक्र का व्यक्तित्व अच्छी स्थिति में हो सकता है। हस्तरेखा विज्ञान के विकास अच्छे ढंग से विकसित होने और विकसित होने की स्थिति में हैं। कम विकास करने वाले व्यक्ति को डब्बू का अनुभव होता है। इस विशाल पर्वतारोही का विकास हो रहा है। ऐसे जातक विपरीत होते हैं जो अत्यधिक अत्यधिक जीवित रहते हैं।

नवंबर-दिसंबर में 15 दिन बंद, तैयारी

वर्तन उलटने की स्थिति में यह स्थिति भी बन सकती है। हस्तरेखा विज्ञान के क्षेत्र में यह भिन्न है। इसी तरह की स्थिति में जातक सुजाव जैसी स्थिति में हैं और इसी तरह। इन लोगों के घर में कोई दिलचस्पी नहीं रखता है। ये दूर मोहमाया से दूर फ़ोन बजे हैं। दूसरी ओर, यदि शुक्र पर्वत अच्छी तरह से विकसित है, लेकिन मस्तिक रेखा असंतुलित हो तो ऐसे लोग प्रेम अथवा कामुकता के चलते बदनामी पाते हैं।
(जिन्होंने जनरूचि को जानकारी दी है।)

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button