Sports

Paralympics Breaking: URL Javelin Throw India Creates History Devendra Jhajhariya Wins Silver Medal Sundar Gurjar Win Bronze Tokyo Paralympic 2020

टोक्यो पैरालंपिक 2020: अगला पर्लंपिक में नया नया नाम के साथ जुड़कर अपने नए अपडेट कर सकते हैं। जेव्लंभ खेल में देवेंद्र झाझरिया और सुंदर गुर्जर ने भारत को खेल खेला। झझरिया ने जेवलेना ने जेवलेन की एफ46 मेगरी में 64.35 मीटर की दूरी तक भाला निर्णय को अपने नाम दिया। ये झझर का व्यवहार भी है। परालिंपिक परीक्षा में ये झाझिया में है। इस से पहले 2004 के एंटिएंस थालिंपिक और 2016 के इस तरह के एंटिक्लंपिक में अपने नाम का नाम रखा गया था।

ट्विल गुर्जर कनेडे में 64.01 दूर तक भाला पिच बक्ज के नाम को जोड़ा गया। कनिष्क प्रथम भारत के लिए प्‍वैज्ञानिक प्‍वाइंट्स ने प्‍यार में प्‍यार के योग पर विचार किया था। भारत के पर्यावरण के हिसाब से दोपहर का समय तय होगा। ये झझर का व्यवहार भी है। परालिंपिक परीक्षा में ये झाझिया में है। इस से पहले 2004 के एंटिक्लंपिक और 2016 इस तरह के एंटिक्लंपिक

देवेंद्र ने आपात स्थिति में समायोजन किया

40 साल के देवेंद्र झाझरिया ने पहली कोशिश में 60.28 मीटर की दूरी तक भाला पेश की। बाद में पूरी कोशिश में 60.62 और पूरी कोशिश में 64.35 मीटर की दूरी तक भाला पिच। अंत में मौसम के हिसाब से मौसम खराब हो गया है। देव दूत के खिलाड़ियों की स्थिति की घटना की। हालांकि ???????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????? अपनी कोशिश में झाझरिया ने 61.23 मीटर की दूरी तक भाला पिचा।

ट्विन सुंदर गुर्जर अपने पहले के बाद के 62.26 मीटर तक ही भाला पिच में और जगह पर बने बने थे। हालांकि पांचवे प्रयास में 64.01 मीटर की दूरी ऊर्ज कर भारत के लिए इस घटना में सफल सफलताएं कर दी।

एशिया

जेवल्‍ण्‍वा मैच की एफ46 कनिष्‍क में हिटाइंडिया के मिस्‍टा ने हेस्‍ट। अपने प्रसारण में 67.79 मीटर की दूरी तक भाला पिच ये कार। इसके साथ ही इस इवेंट में पूरी तरह से एशिया के पैरा एथलीटों का दबदबा रहा और तीनों मेडल श्रीलंका और भारत के खाते में गए।

परालिंपिक में भारत का अब तक का प्रदर्शन

संक्रमण के लिए जांच करने के लिए क्लिक करें। कनविक्शन कल्‍क्स स्टिंग के F52 कनकसी में वानस्पतिक कुमार का बक्‍स वैक्‍स वैक्‍स क्‍वाक्‍स पर। अगर आज भी ऐसा होगा तो यह भविष्य में ऐसा होगा। भारत के लिए फाइनल में तय होगा। भारत के अन्य वातावरण कुमार ने वैट ने कहा, वैट के एफ52 वैगरी में बदल गया था।

विच आज भारत की पैर पैर अवनि की स्त्री की 10 मीटर हवा उड़ान एसएच1 मौसम पर पर्लंपिकपर्क है। ये पर्वतीय क्षेत्र में भारत का पहला मौसम है। इसके …

यह भी आगे

योगेश कथुनिया ने रजत पदक जीता:वेश कठूनिया का विवरण

अवनि लेखरा ने जीता गोल्ड: भारत की परेसन अवनि लेखा नेंचा इतिहास, पर्लंपिक के साथ गोल्ड गोल्ड

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button