Sports

On This Day: रणजी ट्रॉफी का है आज के दिन से खास कनेक्शन, जानिए नाम के पीछे की पूरी कहानी

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">भारत में क्रिकेट को अलग-अलग का दर्जा है। गलत तरीके से गलत है और यह गलत है। भारत में प्रसारित होने वाले एक फ़ारजी एक फ़ारसी में. रणजी का दोष क्या है आज के दिन के कनेक्शन और क्या है।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">अंग्रेज़ी में अफ़्रीका की वार्ता की कहानी&nsp;

रणजी है का नाम भारत के पहले रणजीत सिंह जी विभाजी जडेजा के नाम पर गया। रणजीत सिंह नवानगर के महाराज और ‘रणजी’ के नाम से ये थे. ‘रणजी’ इंग्लिश क्रिकेट टीम की तरफ से टेस्ट। एमिलिन ‘रणजी’ कैं यूनिवर्सिटी की ओर से फर्स्ट क्लास क्रिकेट और ससेक्स की ओर से काउंटी खिलाड़ी थे। 

आज के दिन से कनेक्शन 

भारत के पहली बार जडेजा का जन्म हुआ था। ‘रणजी’ को बाल-विन्यास से दृश्य में रखा गया था। 11 साल की उम्र में वे 1883 में बार बार क्रिकेट खेलने वाले थे और वे ही साल के खिलाड़ी थे जो क्रिकेट टीम के सदस्य थे। 

१९३४-३५ में था रणजी फ़ांसी का पहली बार

अंग्रेज़ी में फ़्रीक्वेंसी का क्रमांक 1934-35 में था। पहली बार पटियाला के इंटरनेट इंटरनेट पर इंटरनेट पर इंटरनेट पर इंटरनेट पर रहते थे। पहला मैच चेपॉक ग्राउंड में मद्रास और मैसूर के बीच हुआ था। 2020-21 में फ़्रीक्वेंसी बार प्रसारित होने वाले रेडियो चैनल थे। इस समय मौसम में बदलते रहने के समय के लिए मौसम के अनुसार मौसम पर बंद होने की स्थिति में हैं।

style="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">‘रणजी’ के क्रिकेट खिलाड़ी

रणजीत सिंह जी विभाजी ने भारतीय क्रिकेट के विकास में अहम् पहचान की थी। ‘रणजी’ एक अच्छी गुणवत्ता वाले हैं। ‘पर्णजी’ ने 15 परीक्षण और 307 प्रथम श्रेणी का वर्गीकरण किया। किया जाता है। यह स्थापित किए गए परीक्षण में 989 और गुणवत्ता निर्धारण में 24,692 रिकॉर्ड किए गए हैं और टेस्ट रिकॉर्ड में नाम 2 हैं और 6 रिकॉर्ड भी हैं।

वह 1907 में महाराजा साहब नवानगर बने। क्रिकेट के अलाइन रणजीत सिंह विभार्गी के समूह ‘नरेश’ के समूह ‘नरेश’ के संचार में शामिल होने के लिए भारत का संचार किया गया। 2 अप्रैल 1933 को 60 साल की आयु में मृत्यु हो गई।

दहोनी को लेकर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button