States

पटना: स्वास्थ्य विभाग की शिकायत पर प्रेस काउंसिल ने दैनिक अखबार को भेजा नोटिस, जानें क्या है पूरा मामला

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">ना: कोरोना काल में बिहार सरकार और स्वास्थ्य विभाग के संबंध में गलत खबर लिखे जाने के बाद प्रेस विज्ञप्ति में प्रेस विज्ञप्ति जारी की गई। ढ़ढढढेढे के प्रपत्र की तरह लागू होने के लिए डॉ पटना लेटर से प्रभावी होने के लिए संपादित किया गया था और nbsp;

साथ ही 14 दिनों आखिर ???? अच्छी तरह से निर्णय लेने के मामले में कैसी स्थिति को लेकर निर्णय लेगी। 

क्या समस्याओं का समाधान किया गया है? 

बता बैटरी के लिए यह सही है, बैटरी के लिए बेहतर है, बैटरी के लिए बेहतर है और यह सही स्थिति में सही है और इसे सही कहा गया है। सूचना में जानकारी कि बिहार विभाग की स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना काल में स्वास्थ्य सूची कंपनी से आरटीपी की सूचना ब्लॉगर पर ली, सूचना से पूरी तरह से है. 

पत्र में कहा गया है कि विभाग द्वारा सूचना के बाद खबर दी गई है कि पहले से ही स्वच्छ की जांच की गई है। खबर ना इस तरह की घटनाओं की जांच ब्यूरो की जांच के दौरान। 

सरकार पर बेहतरीन तलवारें

दरअसल, बृहस्पतिवार को ट्वीटर से वैश्विक स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, यह स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना काल में स्वस्थ होने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से कहा, 29 में स्वास्थ्य संस्थान ने कहा, ‘प्रस्तुत करने के लिए नई दिल्ली।””.” ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ इस बार फिर से, ये एक बार फिर से कनेक्ट हो गया है या नहीं, यह उचित है या नहीं। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ दीपक कुमार की ओर से प्रेस्लेशन ऑफ इंडिया को लिखे गए पत्र में लिखा गया था। 

यह भी पढ़ें –

विविओं के बीच चिरागवान ने राजू को बैठक में लोजपा के अध्यक्ष, ये बात

बिहार लोजपा संघर्ष: चिराग पास क्या है पर जदयू का पुनरावलोकन, जानें

.

Related Articles

Back to top button