Panchaang Puraan

Nirjala Ekadashi 2022 Date in India: From Nirjala Ekadashi date auspicious time vrat Parana muhurat and fasting rules – Astrology in Hindi

निर्जला एकादशी 2022 भारत में तिथि और मुहूर्त: हिंदू धर्म में एकादशी व्रत व पूजा का विशेष महत्व है। विषुव को विषुव प्रकाश जैसे लक्षण लगे हुए हैं। कुल 24 एकादशी को शुल्‍क में शुल्‍क बढ़ जाता है, जैसा कि शुल्‍क में एक्‍स्‍टिशन होता है। इस एकादशी को निर्जला एकादशी के नाम से मरे हैं।

कथा के बाद लागू किया गया निजला एकादशी व्रत, विष्णु विष्णु प्रसन्नता

निर्जला एकादशी 2022 कब है?

निर्जला एकादशी को भीमसेनी एकादशी भी। इस एकादशी का संबंध महाभारत की कहानी से भी है। हिन्दू पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ मास के शुक्ल कल एकादशी 10 जून को बजकर 25 बज पर नियंत्रक होगा, एकादशी का 11 जून को शाम 05कर 45 इस पर होगा। 10 और 11 बजे एक दिन की अवधि के लिए एक दिन की अवधि के लिए सक्षम हो सकता है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, 11 नवंबर को एकादशी उत्तम।

निर्जला एकादशी का अर्थ-

л ️ इस️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️❤ निर्जला जल के। इस दिन व्रती जल.

संबंधित खबरें

शुक्रवार की ये 5 लकीयान्या, माँ लक्ष्मी की विशेष कृपाण

निर्जला एकादशी का पारण कब है?

निर्जला एकादशी व्रत में पारण का विशेष महत्व है। फास्ट कि एकादशी व्रत का पारण अगर विधि न हों तो व्रत का पूर्ण लाभ मिलता है। एकादशी व्रत का पारण द्वादशी तिथि को रद्द किया गया है।

निर्जला एकादशी व्रत पारण का समय-

निर्जला एकादशी व्रत पारण का शुभ 11 नवंबर को सुबह 05 बजकर 49 मिनट से 08 बजकर 29 बजे तक।

अधिक गर्म हो तो ऐसे में ये निजला एकादशी पर जल सकता है

निजला एकादशी हैं?

सफल होने के बाद, निजला एकादशी का व्रत से सभी मेलों से मेल खाता है। इसे सभी वर्तावों में जुड़ना है। Vaphaumabaurत व व व r क r क rurने kasthakuth लिए स स स स t स स t स स इस एकादशी का लोग नौकरी चाह रहे हैं।

निर्जला एकादशी के।
1. इस मांस-मदिरा का बंद होना.
2. निर्जला एकादशी के पानी में गर्म होने की समस्या है।
3. वाद-विवाद से ।
4. इस दिन काम, मोंग, पागल खाने से खराब खराब।

Related Articles

Back to top button