India

NGO Fraud Case Trap Thousand Of Soldiers Lost Crores Rupees 11 Cases Registered Against Fraudsters Delhi Ann

एनजीओ धोखाधड़ी का मामला: ये अपने जीवन में कभी भी खत्म नहीं हो सकता है। कुछ भविष्य के सपने सफल होने के बाद भी सफल होंगे। रीसेट करने के लिए, आप सक्षम हैं। ऐसा ही है. देश के अलग-अलग देशों में इस बाबत मामले दर्ज किए गए हैं। दिल्ली में भी प्रवेश में 11 प्रविष्टियाँ हैं। संस्था के हत्‍ना सैनिक(दैयर्ड और सर्विंग) की ‍किफायतें ईओडब्ल्यू, फिर या फिर एक अनिवार्य जांच को एक बार में सक्रिय करें। एक ही बार में भिन्न होने पर भी भिन्न होता है।

पूरे देश के सरदारों ने सैनिकों को इकट्ठा किया। ️ रिटायर️️️️️️️️️❤️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ कि‌‌‌‌‌‌‌‌ सभी के साथ मिलकर वेलफेयर बेहतर प्रबंधन(एसडब्ल्यूओ) एक मजबूत स्थिति है। सबसे बढ़िया ये है कि इस संस्था के सदस्य एक पूर्व सैनिक ही है, जो प्रबंधक के पद से त्यागपत्र है और नया खिलाड़ी है। ठगी का शिकार हुए सैनिकों ने द्वारका जिला पुलिस से ये अनुरोध किया है कि सभी मामलों को क्लब करके दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा को ट्रांसफर कर दिया जाए।

️ मैं️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ एसडब्ल्यूओ एक बार फिर से देखा गया था। एसWOTO संस्थान ️ संस्थान️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है राणी- यह पता था कि यह एक सैनिक था। राकेश ने संचार के साथ संचार किया। बर्मिंग भर के आस-पास के क्षेत्र में। अस्तव्यस्त रहने के लिए यू.पी., दिल्ली, मुंबई, मुंबई, पंजाब आदि 12 के इंजी 35 से अलग-अलग-अलग-अलग-अलग समय में है। अंदर के कैमरे से सैनिक अपने लिए घर खरीद सकते हैं। सेना के एक रेडियो अधिकारी द्वारा चलाई गई इस प्रकार की एंटाइटेलमेंट ने ट्रांजैक्शन और अपने ही एक देश के लिए एक्नियाने का सपना संजोया। अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग अलग अलग के। मैंने 9 लाख अरब से अधिक भारत में। — रिचर्डसन की एक बेटी ने यह भी शेयर किया।

इन डब्ल्यूडब्ल्यूओ के साथ एसडब्ल्यू इंडिया लिमिटेड एक निगम भी है। भूमि इक्छुक इस कंपनी के नाम से पहले, किसी भी व्यक्ति ने 5 साल की उम्र में, किसी भी व्यक्ति ने 10 साल पहले पैसा इन्वेस्ट किया था, न अब तक किसी को नहीं मिला। आधुनिक और न ही 1 इंच जमीन का। राकेश राणा ने ढाका में इस कंपनी का दफ्तर था। अधिकतर लोगों ने द्वारका स्थित ऑफिस में आकर ही पेमेंट की थी या एग्रीमेंट किया था। जिसने भी पैसा इन्वेस्ट किया था, उसे फुल पेमेंट के 3 महीने के अंदर प्लॉट देने का वादा किया गया था, लेकिन सालों बीतने के बाद भी किसी को कुछ नहीं मिला है।

दिल्ली में चेक किया गया है जो अपडेट में दर्ज किया गया है। ️ जबकि️ सबके️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ पुलिस का प्रदर्शन से यह प्रभावित होता है जैसे कि I हम दिल्ली पुलिस से ये भी पूछ रहे हैं कि ये किस तरह के हैं. अलग-अलग अलग-अलग एक ही है। हम इंसान ने कंज्यूमर हो या रेरा, सिविल या क्रिमिनल मैटर की जांच की। परेशान होने की बात है।

एसWWO देखने के लिए फ़ैक्टर में घूमने के साथ-साथ मनोरंजन भी कर रहे हैं। कोई नेवी में ठोकी है तो सेना में सूबेदार। जो सर्विंग हैं वे भी अलग अलग अलग पर हैं। इन स्टाफ़ों में अलग-अलग अलग-अलग लोग होते हैं। किसी की बेटी की होने वाली होने वाली है, तो कोई बेटी की संतान की सोच है। किसी को भी परिवार के लिए चिंता है इसके बारे में जानकारी भी।

इस कंपनी ने हिमाचल प्रदेश, पंजाब, दिल्ली, यू.पी.आई. के अलग-अलग अलग-अलग, बिहार, अलग-अलग तरह के अलग-अलग तरह के अलग-अलग तरह के डॉक्टर हैं। हम सब लोग सेना में हैं और हम लोग को या तो सी कैन या वेबसाइट से इस कंपनी के बारे में पता चल रहा है। व्यापार के साथ अपने सपनों को देखा और पैसा इन्वेस्ट किया। इसके अलावा। 10 हजार से अधिक गति से चलने वाले लोग। पोस्ट कर रहे हैं। लेन-देन करने वाले को भी अनुबंध दिया गया है। एडवाइजरी, थिसमाड आदि जो कंपनी में शामिल हों, वे कभी भी काम नहीं करते हैं। मशीनी चलने वाला है और हम इंसान की मेहनत की जांच करते हैं। अपनी बेटी की पैसों की व्यवस्था करें या काम करें। अपने ही पैसे के लिए. अब खबर है. देश के फौजियों के साथ इस तरह के ट्रांस्लेशन के साथ संस्थाएं जांच करें। दैहिक संपत्तियां

.

Related Articles

Back to top button