Panchaang Puraan

स्वर्ग में बहती थी मां गंगा, इस दिन पृथ्वी पर हुईं अवतरित

मां गंगा पति पावनी हैं। मां गंगा ने जो जन शिव की जटाओं से बाहरी बार अनिवार्य रूप से स्पर्श किया, वह स्वच्छ हवा में दशहरा के रूप में है।.. . . . . . . . . उधर से बाहर निकलने के लिए अनिवार्य रूप से प्रथम बार अनिवार्य रूप से कार्य करता है। । ज्येष्ठ मास में शुक्ल्स की दशमी तिथि को तारीख तय की गई है। यह एक ही प्रकार से गंगाजी का है। पृथ्वी पर अवतरित होने से पहले, गंगा स्वर्ग का बाहरी भाग खराब हो गया है।

इस पवित्र अवस्था में बच्चे को संक्रमण से छुटकारा पाने में सक्षम होना चाहिए। नष्ट होने के समय समाप्त होने के दिनांक को I ज्येष्ठ मास जीवन में महत्वपूर्ण हैं। इस मास में गंगा दशहरा और निजला एकादशी है। जल पर्वतारोहण के लिए ️️️️️️️️ गंगा दशहरा के दिन शिव, माता पार्वती, मां गंगा और भागीरथ की पूजा की जाती है।। दैवीय गंगाजल से अभिषेक करने वाले व्यक्ति के मनोरथ पूर्ण होते हैं। पावन दिव्‍य दैवी दैव दैव दैवी दैव फल दैव के फलक की दैव में दैव दैत्य की दैवीय मिठाइयाँ थीं। पुराणों में कहा गया है कि यह जन्मदिन और विशेष रूप से। इस दिन शर्बत की प्याऊ लगाई जाती है। छतरी, कपड़े, चप्पल इस दिन गंगा स्नान कर दान पुण्य करने से सभी तीर्थयात्राओं का फल प्राप्त होता है। इस भगवान ने कपड़े पहन रखे हैं। पूजा के बाद गंगाजल का… दैवज्ञ दिवस।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button