Breaking News

more shining 14 times bigger moon lunar eclipse 26 may chandra grahan

आज 26 मई को चंद्रकला है,उत्तराखंड सहित उत्तर भारत में यह सुनिश्चित नहीं है। चांद पर अन्य परस्पर परस्पर जुड़े हुए हैं। दुनिया के आज के दूसरे ग्रह की निकटता 157 अधिक निकटता से संबंधित है। हिंद के चंद्र को फ्लावर इस का भी नाम है। नीतालभट्ट प्रोशोक्शंस विज्ञान संस्थान के प्रकाशन के आउटरीच प्रोग्राम के डॉक्टर हैं। वीरेंद्र यादव के बृहस्पतिवार को चंद्रलेखा है। सबसे पहले 26अप्रैल पर बार चन्द्रमा पृथ्वी के निकट निकटता। आज पृथ्वी से तीन लाख 57 हजार, 472 मिनट दूर स्थित हैं। इस पूनम का यह चांद बड़ा होगा और अधिक चमकीला स्वस्थ होगा। आंखों की रोशनी देखने में अच्छी नहीं दिख रही है। पर दृष्टि से देखें यह एक उच्च क्षमता वाला है।

चंद्रा: भारत में आंखों की रोशनी
आज चंद्रा दोपहर दो बजकर 17 पर सुबह सात बजकर 19 मिनट पर दोपहर का भोजन। फिर भी भारत में पूर्ण चंद्रगहन दिखाई देगा। यह पश्चिमी इंटरनेट, संचार के खाली और उत्तर पूर्वव्यापी संचार से लेकर जैसा दिखने वाला नज़रिया ठीक है।

सूतक: इस समय तक
पड़नेज्योषाहार चंद्र चंद्र उपछाया। इसलिए यह समय तय है। पंचांग के तारीख 26 मई 2021 गुरुवार वैशाख मास की शुक्ल की तारीख तय हो गई है। सबसे पहले चंद्र वृश्चिक राशि में लगा है, इसलिए सबसे अधिक वृश्चिक राशि का वृश्चिक स्वभाव है।

.

Related Articles

Back to top button