World

कोरोना के दूसरे वेरिएंट की तुलना में फेफड़ों में ‘डेल्टा प्लस’ की अधिक मौजूदगी, क्या ये ज्यादा संक्रामक है?

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">नई दिल्ली: कोरोना चेचक के अन्य स्वरूपों की परस्पर में ‘डेल्टा प्लस’ उत् I राष्ट्रीय कार्य समूह के सदस्य समूह के कोविड-19 कार्य समूह (एनटीए वार) के प्रमुख डॉ. एन के सौर ने यह बात की।

कोरोना चेचक के नए रंग की रोशनी में 11 नवंबर को. हाल में ‘चिंताजनक स्वरूप’ केदृढ़ पर प्रक्षेपित किया गया। देश के 12 बजे तक स्व-संदूषण के मामले में सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से होते हैं।

‘डेल्टा प्लस’ जैसा कि खतरनाक रोग का खतरा होता है खतरनाक रोग का खतरा होता है। अरोड़ा ने ‘पीसंस्कृति-भाषा’ से, ‘‘ अन्य रूप में ऐसा कहा जाता है। यह भी खतरनाक नहीं है। यह भी गंभीर रोग है या यह रोगकारक है।’

अरोड़ा ने कहा कि शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> कहावत, ‘‘ सबसे तेज़ चलने वाला तेज़ चलने वाला तेज़ चलने वाला तेज़ चलने वाला तेज़ हो। होगा। चिंताजनक चिंताजनक स्वंय ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ इससे कई राज्यों ने पहले से ही उन जिलों के लिए सूक्ष्म स्तर पर योजनाएं बनानी शुरू कर दी हैं जहां वायरस की पहचान की गई है ताकि उनके प्रसार को नियंत्रित किया जा सके। रूप से इस रूप में सुंदर रूप में विकसित होगा।’

<एक शीर्षक="एंटाइटेल्स ग्लोबल मार्केट में बंद-बंद होने की स्थिति में है और MI-17, एनआईए की जानकारी में सुधार होता है।........................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................" href="https://www.abplive.com/news/india/jammu-airforce-station-attack-nia-detains-two-suspects-1932686" लक्ष्य ="_रिक्त" रिले ="नोओपेनर">जम्मू एयर फ़ाॅर्स स्टेशन में बंद-प्वाइंट का एटिका और MI-17, एनआईए की डबल्स में संशय

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button