Lifestyle

Mercury In Gemini On Wednesday July 14 Mercury Is Exalted In Virgo And Debilitated In Pisces

बुध ग्रह हिंदी में: मिथुन राशि बुध विराजमान हैं। जहां पर बुध सूर्य के साथ बुधादित्य योग बनाए गए हैं। ज्योतिष शास्त्र में बुधादित्य को एक शुभ योग किया गया है। सफल होने के बाद यह सफल होने के लिए योग्‍य हैं। इस प्रकार के रोग, स्वास्थ्य, शिक्षा क्षेत्र में विशेष सफलता प्राप्त होती है। बुध्द्य योग व्यक्ति को धनाड भी. ट्विल मान सम्मान में भी ऑफ़र किया गया है।

बुध ग्रह का स्वभाव
बुध को सभी नवग्रहों में बदल दिया गया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुध ग्रह को सौम्य और शुभ ग्रह बनाया गया है। बुध का सम्बन्ध बुद्धि से है। बुध को ध्वनि, संचार, ध्वनि, संगीत, तर्क, लेखन, आदि का कारक कारक है। बुध की माता के नाम और उसके नाम का नाम है। बुध ग्रह कन्या राशि में उच्च और मीन राशि में दर्ज किए गए हैं। अशिला, ज्येष्ठा और रेवती नक्षत्र के नक्षत्र माने गए हैं। बुध का सूर्य और शुक्र ग्रह मित्र है। मंगल और बुध की दुश्मन है।

बुध का फल
बुध, मंगल, मंगल और मंगल ग्रह की भविष्यवाणी करने के लिए। बुध के साथ बुध जड़त्व योग कर रहे हैं। वाणी से आरोपित भी. बुध रोग रोग भी. बुध के बदलते रहने पर.

बुधवार को बुध का उपाय
बृहस्पतिवार को हमारा बुध ग्रह है। इस दिन पूजा से बुध का दोष दूर है। उत्तम गणेश जी की पूजा करने के लिए उत्तम है। गणेश जी की पूजा से भी बुध का दोष दूर है। विष्णु की पूजा करने से भी दूर स्थित होती है।

बुध का मंत्र – ओम ब्रां ब्रीं ब्रीं स: बुधाय नम:
रंग का रंग

यह भी आगे:
सूर्य गोचर जुलाई 2021: कर्क राशि में सूर्य का राशि परिवर्तन, इन राशियों को ध्यान रखें ध्यान

प्रेम संबंध: शुक्र ग्रह के मौसम में खुश होने के कारण, शुक्र का तापमान सुखद होता है

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button