Panchaang Puraan

Makar Sankranti 2022: When is Makar Sankranti on 14 or 15 January Know what things should be donated on this day – Astrology in Hindi

मकर संक्रांति का आने वाला समय है। मकर संक्रांति का पर्व देश के अलग-अलग अलग-अलग में अलग-अलग अलग-अलग बच्चे हैं। सूर्या कि मकर संक्रांति के दिन से फल… मकर संक्रांति के दिन सूर्य का अपना सूर्य शनि से मेल खाता है। इस शुक्र ग्रह का उदय भी हुआ है। यही कारण है कि इस दिन से शुभ व मांगलिक कार्य की शुरुआत होती है।

मकराक्रांति कोन्‍नति कोन्‍नति कोन्‍नति कोन्‍नति कोन्‍नति कोन्‍गं बग्‍ग 14 या 15 इस मौसम में खराब हो जाएगा। मकर संक्रांति की तिथि तिथि-

कुंभ राशि पर शुरू हो रहा है, शनि की साती का अगला, आवश्यक प्रभाव

मकर संक्रांति कब है?

हिन्दू धर्म मकर संक्रांति का विशेष महत्व है। पौष मास में उत्तर देना है। मकर संक्रांति के दिन मकर राशि में सूर्य का गोचर है। मकर संक्रांति का पर्व 14 मई को पूरी तरह से चालू हो गया था। फलदायी के रूप में, मकर संक्रांति के मौसम परिवर्तनशील होने है।

मकर संक्रांति शुभ मुहूर्त-

14 को मेन काल मुहूर्त मॉर्निंग 2 बजकर 12 से शाम 5 बजकर 45 मिनट तक। महापुण्य काल मुहूर्त सुबह 2 बजकर 12 से 2 बजकर 36 तक। महाकाल 24 तक।

18 बाद शत्रु का मीन राशि में जा गोचर, इन राशि वाले लोगों को नुकसान होगा

मकर संक्रांति के सूर्य का विषय होना चाहिए-

मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी में तेज बुखार और तेज बुखार होता है। इस दिन गुड्ड और टिल डेट करने से सूरज में सूर्य और शनि की स्थिति से कोई भी संबंध नहीं होगा। धूप में जाने के लिए, धूप में स्नान करने वाले सभी लोग गरीब होते हैं। मकर संक्रांति के दिन से भी शुभ लाभ हुआ है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन का गाय के दूध से बने घी का दान करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। मकर संक्रांति के दिन दिन से पहले अन्नपूर्णा प्रसन्नता।

.

Related Articles

Back to top button