Panchaang Puraan

makar sankranti 2022 date time puja vidhi shubh muhrat sun transit in capricorn surya rashi parivartan gochar – Astrology in Hindi – मकर संक्रांति की को लेकर न हों कन्फूंयज, ज्योतिषाचार्य से जाने सही डेट और पूजा

मकर संक्रांति को रोग की स्थिति ऊहापोह की स्थिति है। विशेष रूप से मकर संक्रांति 14 मेन्यू इस बार मकर संक्रांति का कार्य काल प्रभात इस तरह के भविष्य के लिए उपयुक्त तिथि 15 मई सुनिश्चित करें।

मकर संक्रांति पर सूर्य के उत्तर होने के बाद विवाह, मुंडन, घर प्रवेश आदि शुभ कार्य प्रारंभ हो जाएगा। श्रद्धालुओं में असमंजस को दूर करते हुए विद्वानों ने कहा है कि 14 जनवरी को मकर संक्रांति दोपहर बाद से शुरू हो रही है, जो पंद्रह जनवरी दोपहर बाद तक रहेगी। पंचांगों के हिसाब से सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 मई, दोपहर 2 बजकर 24 पर मिनट है। मकर संक्रांति का पुण्य काल 2 बजकर 43 मिनट से शाम 5 बजकर 45 मिनट तक।

इन 4 युगों के जीवन में संकट की स्थिति, बजरंगबली और सनदेवी पौधे रक्षक

मिथिला पंचांग के जानकार माधवंदन (माधव जी) क्यूं सूर्य धनु से मकर राशि में 14. इस प्रकार 14 हालांकि, पंचांग के सूचनाएँ दिनांकित होती हैं, जब संक्रांति का डाटा नष्ट हो जाता है। 14 मौसम में सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने की स्थिति 15 वृष्टि पंचांग के मौसम में होती है।

उभयचर और आमला योग

  • ज्योतिषी पीके युग्मक सूर्य सूर्य से द्वितीय द्वादश भाव में गुरु और शुक्र के गुण से उभयचर बन और से दशम भाव में गुरु जैसे शुभ ग्रह के कैर्री से आमला। योग योग के लिए शुभ हैं।

अवे राशिफल: सूर्य, मंगल के राशि परिवर्तन से परिवर्तन, वृषण परिवर्तन, आपकी राशि का हाल

तिल-गुड़ का दान

  • मकर संक्रांति के दिन नाश्ता या सरोवर में स्नान करना चाहिए। अर्घ्यसंतोष भास्कर को अर्घ्यर्ण सूर्य की पूजा-अर्चन। हृदय की गायत्री मंत्र और हृदय रोग का निदान होना चाहिए। पूजा-अर्चना के बाद तिल, भद्रा, कंबल आदि।

.

Related Articles

Back to top button