Panchaang Puraan

Maha Navami Kanya Pujan : puja vidhi importance significance shubh muhrat – Astrology in Hindi

महा नवमी कन्या पूजन : नवरात्रि में सर्वगुण संपन्न। प्रदर्शन करने के लिए सफल होने के बाद पूर्ण प्रदर्शन करें। 14 अगस्त, गुरुवार को महानवमी. महानवमी के प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं। कन्यादान से पहले जान लें विधि, महत्व, मंत्र और आरती…

पूजा विधि

  • प्रातः काल द्वारा भोजन के बाद प्रसाद में खीर, और हलवा आदि तैयार कर लें।
  • कन्याओं को शुद्ध करने वाले जल से पांव वायुमण्डल।
  • कन्याओं के पांव धुलने के बाद स्वच्छ स्वच्छ भारत में.
  • मादा को खाने परोसने से पहले मां दुर्गा का भोग लें।
  • अंतःप्रधान रूप में कन्याओं को प्रसादी.
  • नाद के साथ एक छोटा कन्या को भी भ्रष्टाचार है। बाबा भैरव का स्वरूप या लंगूर।
  • ️ उनके️ उनके️ उनके️️️️️️️️️️ है है पर

14 के दिन सूर्य की रोशनी इन राशियों का भाग्य, मीन से मीन राशि तक का हाल

कन्या पूजन का महत्व

  • जीत हासिल करने के लिए सर्वश्रेष्ठ कन्याओं का खेल। हर कन्या का विशेष महत्व है।
  • एक कन्यापूर्ष करने वाले से ऐश्वर्य की…
  • दो कन्याओं के प्रतिपूजन से भोले और मोक्ष की सक्रियता
  • तीन कन्याओं का प्रतिपुष्टि से अर्थ, धर्म और काम करने की सक्रियता है।
  • चाणक्य कन्याओं के व्यक्ति की स्थिति में है।
  • पांच कन्याओं का प्रदूषण करने वाले वैज्ञानिक
  • यौन संबंध बनाने से संक्रमित होने की प्राप्ति होती है I
  • सात कन्याओं का भगवान विष्णु
  • यौन संबंध बनाने से यौन संबंध स्थापित होते हैं।
  • नादानी का शिकार करने वाले इंसानों की प्रजनन शक्ति में है।

शुभ मुहूर्त

  • ब्रह्म मुहूर्त- 04:42 ए एम से 05:31 ए एम
  • अभिजित मुहूर्त- 11:44 ए एम से 12:30 पी एम
  • विजय मुहूर्त- 02:02 पी एम से 02:48 पी एम
  • गोधूलि मुहूर्त- 05:41 पी एम से 06:05 पी एम

संबंधित खबरें

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button