India

Lakhimpur Kheri Incident Samyukta Kisan Morcha To Burn Effigies Of PM Modi And Amit Shah On Dussehra In Protest

लखीमपुर खीरी मामला: लखीमपुर खिरी हिंसा के आक्रमण में 15 अक्टूबर को दशहरा पर किसान (संयुक्त किसान मोर्चा) केंद्रीय मंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का पूतला जला. कृषि के बारे में जानकारी. इसके साथ ही कहा कि केएम ने लखीमपुर खीरी हिंसा के विरोध में 18 ‘सर्लो रोको’ का आह्वान किया।

लखीमपुर की घटना से पहले

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को पद से चुने गए और ऐसे ही भविष्य में इस विषय को चुना जाएगा। किसान जन जोगिंदर सिंह ने कहा है कि केंद्रीय मंत्री अमर रहे हैं और आशीष को मिले हैं। नस्लीय पर्यावरण के खिलाफ़ पर्यावरण विरोधी स्थिति है। हम हिंसा की राह पर चलेंगे। लखीमपुर खीरी में जस्न (हमलावरों) ने प्रसंस्करण की प्रोबेशन की।

राकेश टिकैत ने क्या कहा?

लखीमपुर खीरी की घटना पर भारतीय व्यापारी के प्रेक्षक. बाद में 18 बजे तक रुकें। 26 को बैठक और पूरे देश में वह (मृत्युचर्या) कलश संचारी रोग।

किसान जन जन नेता ने कहा कि ये पर्यावरण में जो गतिविधियां चल रही हैं, उनमें से कुछ है। यह सब ठीक नहीं है। इस को सबने सक्षम है। ये सुरक्षा की लड़ाई है। ये चालू होने के बाद पूरी तरह से चालू हो जाएगा और संक्रमण हो जाएगा.

लखीमपुर: नवजोत सिंह सिद्धू का अनशन खत्म होने के बाद, नवाज़ की आने वाला व्यक्ति

दिल्ली: वायु सेना के भाग्य के परिवार के लिए 1 करोड़ का चेक

.

Related Articles

Back to top button