Lifestyle

Krishna Leela : द्वारिका में मूसल बना यदुवंशियों के नाश का हथियार, जानिए किस्सा

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">कृष्णा लीला :महायुद्ध के 36 साल बाद भी अपशकुन आने वाला है। बीच एक दिन विश्वामित्र, कण्व और देवर्षि नारदजी. जरूरी  यादव को चलाने के लिए वे दिमाग से कृष्ण के सदस्य थे, वे सभी लोगों के लिए उपयुक्त थे। त्यागी बभ्रु की पत्नी ने उसे गौरवान्वित किया। बताएं इसके ️ ऋषि️ ऋषि️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है है है ना धुरंधर बुद्धिमानों ने इसे बिगाड़ा है, छलसे। हमारा मानव है। अब सांब के गर्भ से खराब होने का क्रम खराब होगा, जो यदुवंश के विनाश का होगा। पूरे कुल का संहार कर दोमंगे। बाद में सभी मुनि कृष्ण के पास ने कहा कि आप ने जैसा कहा है, वैसा ही होगा।

अगला सुमब ने श्राप के भयानक प्रकोप को जन्म दिया, यदुवंशियों ने जन्नत को जन्म दिया। राजा ने मिस्ल को तुड़वा दिया और मिनिस्टर चावड़ा कार में डालवा दिया। ग्रसनी खराब होने के बाद भी ग्रसनी में झुनझुनी होती है। यह नाश का संकेतक है। कृष्ण ने यदुवंशियों को न्यास यात्रा पर जाने को कहा।

इस पर रोगिकापुरी के सभी पुरुष प्रभास क्षेत्र में प्रजनन करते हैं। इस बार भी काल वसमद्य पनी और लॉग इन हो गए। एक दिन सात्यकि ने श्रीकृष्ण के पास तीर उठाकर कृतवर्मा का अलग कर दिया और वो लोगों का अन्य भी वध हो जाएगा। ️ देखकर️ देखकर️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ हैं. इस पर रोमांच में प्रफुल्लित करने वाले प्रफुल्लित कर रहे थे।

विपक्षियों की संख्या अधिक थी, वे श्री कृष्ण की आंखों को मार रहे थे। सात्यकि और की घातक घातक श्री प्रबंधन के समान ही। श्रीकृष्ण ने उन्हें जीर्ण-शीर्ण कर दिया। कि एराका ने उसे पसंद किया था। फिर काल के चलते फ़ोन से एक हमले शुरू करें। परिवार को संपत्ति में रखा, और उसके पति को उसकी पत्नी ने मार डाला। कृंतक खतरनाक। कृष्ण ने जब देखा कि साम्ब और पोता अनिरुद्ध भी आगे चल रहे थे तो वे सभी उत्साहित थे और जब वे बाकी थे तो नवाबों के संहार चालक थे।

इनहेल्थ: 
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग: सभी ज्योतिर्लिंगों में विशेष हैं महाकालेश्वर, मंगल शिवलिंग

<एक शीर्षक="आषाढ़ अमावस्या 2021 लाइव: आषाढ़ अमावस्या की तारीख न... सनशरी अमावस्या कब है?" href="https://www.abplive.com/lifestyle/religion/ashadh-amavasya-is-on-july-09-know-pujan-vidhi-auspicious-time-and-agricultural-importance-1937955" लक्ष्य ="">आषाढ़ अमावस्या 2021 लाइव: आषाढ़ अमावस्या की तारीख ने पुष्टि की, जानें जानें हलहारीनी & शनिश्चरी अमावस्या कब है?

 

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button