Panchaang Puraan

Krishna Janmashtami 2021: Janmashtami on 30 August include these things in worship to get Kanha blessings – Astrology in Hindi

हिंदू धर्म में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का विशेष महत्व है। श्री कृष्ण विष्णु जी का गुणगान। श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व धूम के साथ खराब हो रहा है। इस दिन भक्त भगवान की झांकियां निकालने के साथ ही उनका आशीर्वाद पाने के लिए विधि-विधान से पूजा-अर्चना करने के साथ ही व्रत भी रखते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, जन्माष्टमी का त्योहार हर साल भाद्रपद के कृष्ण तिथि को तिथि करता है। अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से ये तिथियां अगस्त-सितंबर में हैं। इस वर्ष 30 अगस्त (सोमवार) को छुट्टी होगी।

जन्माष्टमी का शुभ समय-

निशीथ पूजा मुहूर्त- शाम 23:59:27 बजे शाम 24:44:18 बजे तक
समय- 44
जन्माष्टमी पारण मुहूर्त- 31 अगस्त को सुबह 05:57:47 बजे बाद।

मथुरा के कृष्ण जन्माष्टमी की तैयारी शुरू, बांके बिहारी मंदिर में मध्य रात्रि से दर्शनशास्त्र

पूजा में शामिल हैं-

बालपाल के लिए झुला, गोपाल की गोरी, बाल सौंदर्य की सुंदरता, बानुपाल के वस्त्र, सौंदर्य के लिए कुमक, अक्षत, मक्खन, गंगाजल, धूपबत्ती, केसर, सिंदूर, सुपारी, बालबाल की सुंदरता, बालगोपाल के वस्त्र के लिए फूल, तुलसी के पैड, चंदन, पैडीमाला, कमलगट, तुलसीमाला, धनिया, लाल वस्त्र, केले के लेटर, शकर, शुद्धी, दही, दूध और दूध

जन्माष्टमी से पहले इन भाग्य का साथ, I

पूजा-विधि

जल्दी जल्दी उठो।
घर के मंदिर में साफ- सफाई करें।
घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
सभी देवी- का जलभिषेक करें।
इस दैत्याकार श्री कृष्ण के बाल्यपाल गोपाल की पूजा की स्थिति में हैं।
लड्डू गोपाल का जलाभिषेक करें।
इस देश के लड्डू गोपाल को झूले में।
लड्डू गोपाल को झूलाएं।
अपनी इस बात का भी ध्यान रखें कि सात सात्विक सम्भोग का भोग भोग्य हों।
लड्डू गोपाल की सेवा की व्यवस्था करें।
इस रात्रि पूजा का महत्व, श्री कृष्ण का जन्म दिन था।
रात्रि में श्री कृष्ण की विशेष पूजा- अर्चना।
लड्डू गोपाल को मिश्री, मेवा का भोग भी।
लड्डू गोपाल की आरती।
अधिक से अधिक लड्डू इस समस्या से निपटने के लिए.
इस लड्डू में गोपाल की अधिक से अधिक सेवा।

.

Related Articles

Back to top button