Panchaang Puraan

Know the auspicious time of Mahalakshmi worship in business institutions – Astrology in Hindi

दीपोत्सव का त्योहार बस कुछ दूर है। दो को धनतेरस के साथ पांच दिन की अवधि की शुरुआत। ज्योतिषी दृष्टि से देखें तो धनतेरस से कुछ खास मुहूर्त बनने के लिए आदर्श आदर्श सर्वोत्कृष्ट होंगे। व्यवसाय में महालक्ष्मी के कुछ विशिष्ठ मुहूर्त के बारे में हम नियुक्त हैं। ये सभी मुहुर्त दिल्ली के समय पर आधारित हैं। ऐसे में विशेष रूप से माइनस अंतर हो सकता है। धनतेरस से दीपावली तक सौदा करने वालों में महालक्ष्मीपति के बारे में।

धनतेरस 2 नवंबर 2021 का दिन
-12:06 बजे से 13:26 बजे तक चर के चौघड़िया ( शुभ मुहूर्त)
-13:43 से 15:13 तक कुंभ राशि (स्थिर लग्न)
-16:39 से 18: 14 बजे तक मीन लगा (शुभ मुहूर्त)
-18:14 से 20:10 तक वृषभ लग्न (स्थिर लग्न)
इन विशिष्ट मुहूर्तों में महालक्ष्मीपुष्प के साथ आयुर्वेद के जनक धन्वंतरी जी का प्रतिपुष्टि व हवन जने है।

सूक्ष्म दीपावली, 3:11 2021 दिन गुरुवार
– 10:46 से 12:00 बजे तक शुभ के चौघड़िया
– 14:48 बजे से 16:22 बजे चर के चौघड़िया
– 16:22 बजे से 17:32 बजे तक
– 18:14 से 20:10 बजे तक प्रदोष वेला और वृषभ लग्न (स्थिर लग्न)

धनतेरस : धनतेरस के इस मुहूर्त में करें और पूजा- धर्म, ये ये आरती करें

दिवाली 4 नवंबर 2021 के दिन रात शुभ मुहूर्त

-प्रातः काल 6:40 से 8:00 बजे तक शुभ की चौघड़
-7:33 से 9:51 तक वृश्चिक लग्न (स्थिर लग्न)
-प्रातः 9:51बजे से 11:55 बजे तक धनु लग्न
-11: 55 से 13:37 बजे तक मकर लग्न (अभिजित मुहूर्त)
-15:05 बजे से 16: 30 बजे तक मीन्न

दिवाली में दिवाली के शुभ मुहूर्त
– 18:06 बजे 20:02 बजे तक मीन लग्न और प्रदोष वेला
– 20:03 से 22:16 तक मिठाइयां
– 22:17 बजे से 24:35 बजे तक
-रात्रि 12: 35 बजे से 2:53 बजे तक सिंह्न निशिथ काल (मंत्र सिद्धि के लिए फ़ारसी के लिए विशेष व्यक्ति का मुहूर्त)
(ये सही ढंग से काम कर रहे हैं और जनता के लिए ऐसी स्थिति में हैं।)

.

Related Articles

Back to top button