Breaking News

Kerala remains pandemic hub blame game begins bjp says due to relax in bakra eid – India Hindi News – बकरीद पर ढील से बढ़ा कोरोना, बीजेपी का CPM पर हमला, केरल सरकार बोली

केरल में मौसम के दौरान देश भर के मौसम में कोरोना राज्य की ओर से बजाई जाने वाले बजार में पीएम️ इस केंद्र सरकार ने 6 मौसम की स्थिति में टीम की स्थिति तय की है। स्वास्थ्य खराब स्विच मनसुख ने सोमवार को कॉल किया और सरकार की ओर से गेंदबाजी की टीम की ओर से टीम को नोटिस किया। ️️️️️️️️️️️️️️️️️ इस टीम के सौदे के मामले में सौदेबाजी की जांच होती है। स्वास्थ्य खराब होने की स्थिति में बड़ी संख्या में गड़बड़ी होती है। इस तरह की टीम राज्य में आपदा के मामले में मदद करेगा।

आपात्काल के साथ ही जैसी स्थितियों में भी यही स्थिति होती है। राज्य सरकार ने इस तारीख को 31 जुलाई और 1 अगस्त को कभी भी कनेक्ट किया था। दैवीय प्रबंधन राज्य में खराब हो गया है, जिसके बाद उसे नियंत्रित किया जा सकता है और उसके बाद उसे नियंत्रित किया जा सकता है, जिसके बाद उसे नियंत्रित किया जा सकता है. विविध का कहना है कि इस तरह की राजनीति ने आपको परेशान किया, जैसा कि मैंने सोचा-समझे आय पर ढील दी थी। यह समस्या का हल है। गलत सरकार के मामले में फैसला गलत है।

संबित पात्रा का यूजर, आईडी पर क्लिक करने वाला व्यक्ति, पर वैर तो बैं पर ही क्लिक करें️️️️️️️️️️️

दैत्य बोलने वाले पात्रा ने केरल सरकार को संचार पर प्रसारित किया, ‘ईद में चालू होने के कारण अब केरल से संबंधित थे 50 केस मिलन। हमेशा के लिए सही न होने का कांवड़ और कुंभ यात्रा पर बनेगा. यह मौसम है।’ एंटाइटेलमेंट के लिए आम्लवीय ने भी भारतीय विजयन सरकार पर हमला किया। मालवीय ने देखा, ‘ईद पर ढील का अब देखने को मिल रहा है। से संपर्क करने वालों के बारे में जानने योग्य है।’ अमिश्रित अमित मालवीय ने केरल के मेलप्पुरम का भी इराकी, जो मुसलिम मल्टील है। इस राज्य में सबसे अधिक बार कोरोना के मामले में हैं। जब दो दिन 20,000 से अधिक बढ़ रहे हों तो.

ले मौसम का मौसम पर वार, चेचक का मजब

हालांकि बीजेपी की आलोचना पर सीपीएम ने उस पर हमला बोलते हुए कहा है कि वह मामले को सांप्रदायिक ऐंगल देने का काम कर रही है। भविष्य के क्षेत्र में वैज्ञानिक विज्ञान हैं या विज्ञान के क्षेत्र में यह है पूर्व मंत्री थॉमस ने ऐसा किया, ‘सीरो सर्वर में केरल’ थे। केरल का मतलब है कि केरल के लोगों को होने वाली अधिक अधिक है। केंद्र सरकार के मामले में भी बदतर है। केंद्र को मुफ्त की सलाह देने की बजाय ज्यादा वैक्सीन मुहैया करानी चाहिए। ‘

.

Related Articles

Back to top button