Panchaang Puraan

kartik maas dhan labh ke upay remedies totke how to get blessings of maa laxmi – Astrology in Hindi – धन- हानि को दूर करने के लिए कार्तिक मास में रोजाना करें ये उपाय, होगा धन

कार्तिक मास का हिन्दू धर्म अधिक महत्व है। कार्तिक मास में मां लक्ष्मी की पूजा का विशेष महत्व है। इस माह में लक्ष्मी की पूजा करने से माँ को विशेष कृपा प्राप्त होती है। माँ लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है। माँ की कृपा से व्यक्ति के सभी मनोविकार प्रभावित होते हैं। लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए धन-लाभ होने से यह समस्या होती है। लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए लक्ष्मी का भोग लगाना। लक्ष्मी लक्ष्मी को प्यार करता हूँ। धन- को को पूरा करने के लिए, माता-पिता को भोजन करने के लिए। माँ की आरती के साथ लक्ष्मी लक्ष्मी का पाठ भी। आगे पढ़ें, श्री माता लक्ष्मी चालीसा…

कार्तिक मास 2021 : कार्तिक मास के वीक में ये राशि मासिक वार्षिक, माँ लक्ष्मी ऋंगी मेहरबाण, धन की वर्षा होगी

  • श्री लक्ष्मी चालीसा (श्री लक्ष्मी चालीसा):

मैं सोरठा॥
मोर अरदास, हानिकारक जोड़ विनती करुं।
विधि करौ सुवास, जय जननिजदंबिका॥

मैं चौपाई
सिंधु सुता मैं सुमिरौ तोही।
ज्ञान बुद्घी विघा दो मोही॥

श्री लक्ष्मी चालीसा
आप इसी तरह के उपकारी। विधि पूर्वाहु असा सब
जय जय जनता जगदंबा सबकी तुम हो अवलंबा॥1॥

आप घटे हुए घटते हैं। विनती
जगजनी जय सिंधु कुमारी। दीन की तुम हितकारी॥2॥

विनवौं नित्य. कृपा करौज जननी भवानी॥
केहि विधि स्तुति करौंतिहारी। सुधि जैविक अपराध

कृपा दृष्टि चितववो मम ओरी। जगजनी विनती सुन मोरी॥
ज्ञान बुढी जय सुख की जानकारी। संकट हरो माता॥4॥

कृष्णिन्धु जब विष्णु मथायो। चौहत्तर रत्न सिंधु में पायो॥
चौहत्तर रत्न में आप सुखरासी। सेवा कियो प्रभु बनी दासी॥5॥

जब तक जन्मभूमि प्रभु लीन्हा। पूरी तरह से तहं सेवा कींहा
स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा। लीन्हेउ अवधवर्वी शब्दावलियों॥6॥

तो तुम प्रगट जनकपुर माहीं। सेवा कियो हृदय पुलकाहीं॥
मध्य तोहि इंटर्यामी। विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी7॥

आप सम प्रबल शक्ति आनी। कहं लोम कहौं बखानी॥
मन क्रम प्रतिज्ञा करै सेवकाई। मन फल फली॥8॥

तजिछल कपट और चतुराई। पूज
और हाल मैं कहूं बुझाई। जो यह पाठ करै मन लाई॥9॥

ताको अडच नो नोई। मन पावेल फल सोई॥
त्रेही त्राहि जय दुःख निवारीनि। त्रिविंड टैप भव वेलफेयरी॥10॥

जो अवैद्य। ध्यान दें सुनाना
ताकौ कोई न रोग सताव। त्रैमासिक धन

स्त्रीलिंग अरु संपति हीना। आंन बधिर कोरी अति दीना॥
विप्र बोला कै पाठ करावल। शंख दिल में कभी नहीं 12॥

पाठ करावै दिन चालीसा। ता पर कृपाण गौरीसा
सुख-सुविधाएं सी पावै। कमी काहू की आवै॥13॥

बारह मास करै जो पूजा। तेहि सम धन और नहिं दूजा॥
नियमित पाठ करें मन माही। उन सम कोयज में कहूं नाहीं॥14॥

बहुविकल्पी मैं बड़ाई। ले परीक्षा ध्यान दें॥
करि विश्वास करै व्रत नेमा। होय सिद्घ की फसलै उर प्रेमा15॥

जय जय जय लक्ष्मी भवानी। में व्याप्य गुण खान सबी
आप्हरो तेज तेज तेज मिं। तुम सम कोउ दयाल कहुं नाहिं१६॥

मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै। संकट कातिल मोहि दीजै॥
गलत दोष रोग। दर्शन द दशा दशा निषारी॥17॥

बिन दर्शन करने वाले अधिकारी। तुम्ही अछत दुख सहते हुए
नहिं मोहिं ज्ञान बुद्घी है तन में। जनत हो अपने मन में॥18॥

चतुर्भुज कॉर्टिंग। अडचिंग मोर अब करहू
केहि प्रकार मैं बड़ाई। ज्ञान बुद्घी मोहि अधिकाई॥19॥

मैं दोहा
त्रेहि त्राहि दु:ख्यिनी, हरो वेगी सब त्रास। जयति जयति जय लक्ष्मी, शत्रु को नाश
रामदास धरि ध्यान न दें, विनय करत कर ज्योरी। मातु लक्ष्मी दास पर, करहु दया की कोर॥

.

Related Articles

Back to top button