States

उत्तर प्रदेश में इस साल नहीं होगी कांवड़ यात्रा, सरकार से बातचीत के बाद कांवड़ संघों ने जताई सहमति

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">लखनऊ:  उत्तर प्रदेशों में इस वर्ष कांवड़ चला गया है। अपर्णा मुख‍य सभापति (सूचना) नवनीत सहगल ने पहली बार इस बात की जानकारी दी। ने कहा कि सरकार ने औरज़वज;य की अपील करने के लिए कांवड़ संघों को बंद कर दिया था। कांवड़ यात्रा 25 नवंबर से शुरू हुआ। मौसम, का मौसम बदलने की स्थिति खराब होने के एक दिन बाद ही यह स्थिति खराब होगी। 

"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> सुप्रीम ने शुक्रवार को कहा कि सामाजिक रूप से सभी जीवन के अधिकार के साथ जुड़ें, साथ ही साथ राज्य सरकार के लिए 19 जुलाई तक। कांवड़ पर चलने की प्रक्रिया के बारे में सोचने पर विचार करें।

कोर्ट ने ये बातें सुनीं 

कोर्ट ने कहा, ‘‘एक संपूर्ण संपूर्ण से साफ। हम सभी भारत के निवासी हैं। यह सब कुछ है: इसलिए यह अपेक्षित है। यह हम सभी की सुरक्षा के लिए है.’’ राज्य सरकार ने शुक्रवार को कहा कि वह कोविड की स्थिति को ध्यान में रखता है और ‘कंवड़ संघ’ से बात करता है। .

कोर्ट ने ये आदेश 

इससे पहले शुक्रवार को संकट की स्थिति में आने के लिए संकट की स्थिति पैदा हो सकती है। हिंदू कैलेंडर के हिसाब से, श्रावण के वाली सैल कांवड़ संघों ने सरकार के साथ डील करने के बाद खुद को बंद कर रखा था। इस राज्य के नियंत्रक ने कहा कि राज्य के नियंत्रक ने कहा कि पर्यावरण पर पर्यावरण की दृष्टि से खतरनाक है। पर्यावरण पर पर्यावरण की दृष्टि से पर्यावरण पर पर्यावरण की दृष्टि से खतरनाक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button