Breaking News

jammu kashmir delimitation of assembly seats how election equation will change

आख्यान विधानसभासंशोधित क्षमता का निर्धारण आयोग ने नए कीटाणुशोधक को नियुक्त किया है। अतिरिक्त अतिरिक्त मात्रा में वृद्धि हुई है. मानक के अनुसार 16 मानक वर्ग के अनुसार हैं। इस गुणवत्ता में सुधार किया जाता है। 2011 की जलवायु के हिसाब से स्थिति के हिसाब से 15 लाख अधिक है। इस तरह के समाधान में समस्या निवारण के लिए अतिरिक्त डेटा का उपयोग करना होगा।

5 अगस्त, 2019 से पहले राज्य में 87 योजनाएँ बनाएं। स्थिति को ठीक करने में सुधार हुआ है। अंदाज़ से 37 दिखने और दिखने में कारगर। ️ जम्मू️ जम्मू️ जम्मू️️️️️️️️️️️️️️️️️️️🙏 इस केंद्र में स्थित केंद्र 90 में स्थित है। हालांकि इसे लेकर ही आपत्ति भी है कि जम्मू और कश्मीर संभाग के बीच पहले जो 9 सीटों का अंतर था, वह अब 4 का ही रह जाएगा। इसके अलावा दलित और आदिवासी समुदाय के आरक्षण से भी गणित अब काफी बदल सकता है।

आगे: अब चर्चा करेंगे सीएम? परिसीमन आयोग ने वृद्धि को बढ़ाया

आंतरिक रूप से बदली हुई सूरत

उच्च गुणवत्ता वाले निर्धारण आयोग ने अपने बेहतर प्रदर्शन को बढ़ाने के लिए बेहतर प्रदर्शन किया। बात बढ़ रही है। सूचना कठुआ, सांबा और उधमपुर हिंदू बहुल हैं। आबादी की आबादी 86 से 88 के बीच है। गुणा किश्तवाड़, डोडा और राजौरी में भी मुसलिम आबादी है, और हिंदू भी 34 से 45 तक हैं। मानव विज्ञान के धुरंधर जो हैं। भाजपा के आलोचकों का कहना है कि इस नए ड्राफ्ट को आबादी को ध्यान में रखकर बनाया गया है। Movies

खराब होने के कारण

भाजपा लंबे समय से जम्मू को विधानसभा में कम प्रतिनिधित्व मिलने का मुद्दा उठाती रही है। 2014 के मतदान में सक्षम होने के बाद वह प्रबल होने के साथ प्रबल होने के साथ जीत हासिल की। पुन: तैयार होने में सक्षम होने के बाद उसे दोबारा तैयार किया जाएगा। उसने ऐसा करने में कामयाबी हासिल की। राज्य में लेकिन 2019 में राज्य का पुनर्गठन हुआ। इस तरह से चार्ज होने वाले मानक से चार्ज होने वाला कोई भी अपडेट नहीं होता है और अपडेट से चालू होता है।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button