Business News

Issue Price, Objective, Lenders, Financial Performance. What We Know So Far

NS जीवन बीमा निगम (एलआईसी) रिपोर्ट्स के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020-FY21 की दूसरी छमाही में अपनी आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (IPO) खोलने की योजना बना रहा है। इस आईपीओ यह देश का अब तक का सबसे बड़ा मुद्दा बनने जा रहा है क्योंकि भारत सरकार को एलआईसी में अपनी हिस्सेदारी बिक्री से लगभग 80,000 करोड़ रुपये से 90,000 करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद है। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह मार्च 2022 में समाप्त होने वाले चालू वित्त वर्ष में निजीकरण कार्यक्रम से 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने की सरकार की योजना का हिस्सा है।

भारत सरकार दो सरकारी सूत्रों ने रॉयटर्स को बताया कि एलआईसी आईपीओ को संभालने के लिए गोल्डमैन सैक्स, सिटीग्रुप और एसबीआई कैपिटल मार्केट सहित लगभग 10 निवेश बैंकों को भी शामिल किया है। रिपोर्टों के अनुसार, ‘रणनीतिक विनिवेश पर वैकल्पिक तंत्र’ नामक एक मंत्रिस्तरीय पैनल, बेची जाने वाली हिस्सेदारी के आकार पर निर्णय लेने की संभावना है। यह भी संभावना है कि बेची जाने वाली हिस्सेदारी का आकार एलआईसी में उसकी हिस्सेदारी के 10 प्रतिशत से अधिक नहीं होगा।

एलआईसी खुद न केवल फंड जुटाने के लिए बल्कि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में सूचीबद्ध होने के लिए इस हिस्सेदारी को बेचने की योजना बना रही है। अगस्त 2020 तक, LIC ने अपने ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) के लिए दायर नहीं किया था। हालांकि, इश्यू टाइप को बुक बिल्डिंग ऑफर माना जा रहा है।

अन्य विवरण जैसे कि प्राइस बैंड, ग्रे मार्केट प्रीमियम, सटीक इश्यू साइज और आईपीओ का अंकित मूल्य अभी तक सामने नहीं आया है। यह भी स्पष्ट नहीं है कि आईपीओ की सही तारीखें अभी क्या होंगी। आईपीओ संभालने की होड़ में कुल 16 बैंक थे जो एक स्थान के लिए होड़ कर रहे थे। इनमें से सात वैश्विक और नौ घरेलू बैंक थे। इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए चुने गए ऋणदाताओं में से जेएम फाइनेंशियल लिमिटेड, एक्सिस कैपिटल, नोमुरा, बोफा सिक्योरिटीज, जेपी मॉर्गन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, कोटक महिंद्रा, गोल्डमैन सैक्स, सिटीग्रुप और एसबीआई कैपिटल मार्केट थे।

रॉयटर्स के अनुसार, सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त प्रयास कर रही है कि वह खुदरा निवेशकों के साथ-साथ कंपनी के कर्मचारियों को आईपीओ में भाग लेने के लिए आकर्षित करे।

एलआईसी भारत की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है जिसके पास 34 लाख करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति है। कुछ नाम रखने के लिए बहरीन, केन्या, श्रीलंका, नेपाल, सऊदी अरब और बांग्लादेश में संयुक्त उद्यमों के साथ सिंगापुर में इसकी सहायक कंपनियां भी हैं।

एंजेल ब्रोकिंग के अनुसार, बड़े पैमाने पर ऋणदाता ने अप्रैल और जून 2021 के बीच शेयर बाजार में 10,000 करोड़ रुपये से अधिक का लाभ दर्ज किया। जून 2021 तक, कंपनी ने अपने नए व्यापार प्रीमियम के संबंध में 67.52 प्रतिशत की विशाल बाजार हिस्सेदारी दर्ज की थी। एंजेल ब्रोकिंग ने कहा कि कंपनी के नए व्यापार प्रीमियम की वृद्धि दर पिछले साल की वृद्धि दर से आठ गुना अधिक थी जो कि 148.11 प्रतिशत थी।

ऐसे कई कारक हैं जो इस आईपीओ को एक बहुप्रतीक्षित और संभावित रूप से सफल मुद्दा बनाते हैं। इसका मजबूत वित्तीय प्रदर्शन है और इसने रिकॉर्ड-उच्च विकास की एक मिसाल कायम की है। यह FY21 तक एक ऋण-मुक्त कंपनी भी है। ये सभी तत्व इस आईपीओ को वित्तीय वर्ष के अंत तक आगे बढ़ाने के लिए कुछ जोड़ते हैं।

सभी पढ़ें ताज़ा खबर, ताज़ा खबर तथा अफगानिस्तान समाचार यहां

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button