Breaking News

ISRO EOS-03 News Space minister Jitendra Singh says Mission can be re-scheduled after Isro fails to put GISAT-1 in orbit – India Hindi News

अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) आज (गुरुवार) को स्पेस में एक और भारतीय फेर फेल से फेल हो गया। स्पॅप्शन के बाद के समय के बाद उसे ठीक उसी तरह से मैसेज किया गया था जब उसे ठीक किया गया था। मगर भारत की उम्मीदें अब भी जिंदा हैं। ई-संक्षिप्त होने के बाद विशेष रूप से संबंधित विभाग के केंद्रीय राज्य के केंद्रीय राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने रविवार को इस विषाणु के प्रभाव को बाद में ग्रहण किया। उन्होंने कहा कि यह इस प्रकार है. के सिवन से बातचीत की है।

जितेंद्र सिंह ने इसरो के एक व्यक्ति पर एक कॉल किया और कहा कि इसरो के अध्यक्ष डॉ. के सिवन से बात की और कटि से चर्चा की। उन्होंने कहा, ‘ पहले चरण में ही अगला कदम उठाए। मिशन को कुछ समय बाद फिर से निर्धारित किया जा सकता है। ‘ इस्क्रो का जीवी कीट संचार के लिए संचार के प्रभावी संचार के लिए संचार के प्रभावी होने के लिए संचार के माध्यम से संचार करेगा। फरवरी में अंतरिक्ष के अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) का प्रक्षेपण अंतरिक्ष उपग्रह के बाद के प्रक्षेपण के बाद होता है।

मौसम के अनुसार, 51.70 इस मौसम के मौसम में जी-एफ10/ई मौसम-03 ने 26 घंटे की उलटी गिनती के फाइनल के बाद शीघ्र ही अंतिम बार जांच की, श्रीहटा के अंत में प्रवेश (प्रक्षेपण)। ‘मिशन कंट्रोल सेंटर’ के वैज्ञानिकों ने बताया कि उड़ान भरने से पहले, ‘लॉन्च ऑथराइजेशन बोर्ड ने योजना के अनुसार सामान्य उड़ान भरने के लिए मंजूरी दी थी। पहले चरण में संदेश प्रदर्शन सामान्य। मगर कुछ मिनटों बाद हालांकि, वैज्ञानिकों को चर्चा करते देखा गया और रेंज ऑपरेशन्स निदेशक द्वारा मिशन कंट्रोल सेंटर में घोषणा की गई कि ” कुछ खराबी के कारण मिशन पूरी तरह से सम्पन्न नहीं हो सका।

‘ विंग्लाइज़ सेन्टर’ में मिर्ज़ के समान्स की घोषणा, ‘क्रान्ति के चरण में, क्रिया में सुधार होगा। मैसेज टाइप करें: बाद में इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने भी इस बात की पुष्टि की। डेटाबेस में परिवर्तन करने के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण विवरण व्यक्तिगत रूप से बदलते समय और कृषि, वन, जल और विशेष रूप से जानकारी के लिए सूचना प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण है। था।

संबंधित खबरें

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button