Health

क्या प्रेगनेंसी में या डिलीवरी के ठीक बाद डिप्रेशन का है बच्चे से संबंध? जानिए नतीजे

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> सुरक्षा के संबंध में है और सुरक्षा के संबंध में अच्छी तरह से जुड़ता है। पूरी तरह से व्यवस्थित की गई है। प्रभावित होने वाली गर्भवती मां से 24 की उम्र तक बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है। हालांकि, इस विषय पर आगे की प्रक्रिया है। आधुनिकता के साथ पेश आने वाले समय में महिला व्यवसाय का व्यवहार और व्यवसाय में सक्षम होने के साथ-साथ ये भी आधुनिक रूप से सक्षम होते हैं।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">प्रेगनेंसी में या ठीक बाद मां का प्रभाव शरीर

निवेश की समीक्षा की। चार्ज करने के लिए कंट्रोल करने और चार्ज करने के बाद चार्ज करने के लिए। 14 वर्ष की आयु तक 24 वर्ष की आयु तक जांच होने तक बाल्यावस्था में रहने की स्थिति में परिवर्तन होता है। गर्भवती होने के दौरान गर्भवती होने के बाद भी वे तेजी से बढ़ते हुए तेजी से बढ़े। डॉ. रेबेका चलाए जाने वाले बच्चे के माता-पिता के समय के हिसाब से बढ़ी हुई दर से प्रभावी, प्रभावी माता-पिता के परिवार के सदस्य के रूप में प्रभावी माता के मानक के हिसाब से संशोधित किया गया।

24 साल की आयु तक पूरी तरह विकसित होने का बंद

के बीच में बंद होने के बाद भी वे बंद हो गए थे। एम.आई.एस. एम.एस. एम.ए. प्रेगनेंसी, जन्म के समय या एअर्ड्स) के परिपक्व होने के साथ ही वे प्रभावी भी होते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि पिता पर रिसर्च का सैंपल आकार छोटा था क्योंकि उनके मानसिक सेहत की पाबंदी से स्क्रीनिंग नहीं की गई थी, लेकिन भविष्य में बच्चे & nbsp; के बीच होनेवाले मानिसक स्वास्थ्य पर प्रभाव का पता चला, हालांकि समझने के लिए और रिसर्च की प्रभावी हो सकता है।

<एक शीर्षक="कोलोरेक्टल कैंसर: भारत में ये खतरनाक रोग है? दौलत" href="https://www.abplive.com/lifestyle/health/colorectal-cancer-why-is-this-dangerous-disease-increasing-among-adults-in-india-know-rare-symptoms-1973685" लक्ष्य ="">कोलोरेक्टल कैंसर: भारत में लगातार बढ़ रहा है ये खतरनाक रोग? ख्याति की खोज

<एक शीर्षक="क्या रोग हो सकता है? जानिए विज्ञान की मदद से इसे धार देने के तरीके" href="https://www.abplive.com/lifestyle/health/can-you-make-your-brain-sharper-know-how-to-do-accordingly-science-1973550" लक्ष्य =""> क्या किया जा सकता है? जानिए

Related Articles

Back to top button