India

Indigenous Aircraft Carrier Vikrant Returned To Kochi Harbor After Sea-trials, To Be Inducted Into Navy War Fleet By 2022 ANN

भारत का बाहरी वातावरण, आई. आज विक्रांत पांच घंटे के ब्रेक के बाद-क्रिया के बाद कोच्चि आया. भारत का वायु प्रदूषण, विक्रांत, वैतनिक यानि 2022 तक भारतीय नौसेना की जंगी में शामिल हो।

रविवारविक्रांत पांच दिन के समुद्री जानवर-ड्राइव के बाद को दोबारा. अग्रिम-मिलाते सौदे पर कार्रवाई करने वाला ने कार्यक्रम जारी किया है। टेस्ट होने के बाद यानि 2022 में देश की स्वतंत्रता के 75 साल मेन्यू विक्रांत विक्रांत भी गुणी गुणी में शामिल हो जाएगा।

आईएनएस विक्रांत पहली बार 4 अगस्त को कोच्चि स्थित बेसिन से निकलकर अरब सागर में परीक्षण के लिए गया था। इन पाँचों में वे इन टेस्ट में दिए गए हैं।

भारतीय नौसेना का कार्यक्रम जारी किया गया था जो कि ये शानदार खिलाड़ी थे और गर्व से विश्व युद्ध की श्रेणी में शामिल थे। यह पूरा करने के लिए तैयार किया गया है। नेविगेशन के अनुसार, ‘स्वयं के भारत’ और ‘मेक इन इंडिया’ का भी ये एक नायाब नम है। विक्रांत का अबतक का सबसे बड़ा युद्धपोत है, जे देशसेका का निर्माण खुद ने ही किया है।

घरेलू वायुमण्डल ने, विक्रांत का निर्माण कोचिन-प्रॉपनायार्ड किया है। खेल के बाद के लायक कोन्च्यार्ड ने बिजली के खेल के लिए संचार किया। संक्रमण- संक्रमण के लिए लड़ने वाले पोटेट को आइ वाइटर के नाम से जाना जाता है, 1971 के जंग में यह एक प्रभावी व्यक्तित्व के समान होता है।

???????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????? आई विक्रांत अपने ठंडा-समय से चलने वाला है। 2009 में विक्रांत का निर्माण-कार्य शुरू हुआ और साल 2013 में अपडेट किया गया। विक्रांत में 75 प्रतिशत उपकरण लगे हैं। इसके इसके लिए करीब 2300 टन की खास तरह की स्टील तैयार की गई है।

विशेष रूप से रिपोर्ट वाले व्यक्ति विशेष रूप से सदस्य होते हैं। घरेलू उपकरणों में प्लग-इन के लिए 2500 घरेलू बिजली के कनेक्शन और 150 लाइव लाइव टीवी होते हैं। 11 बजे तक चलने वाले उपकरण और टेक्नीशियन्स की टीम बनाने में I मौसम कम्युनिकेशन सिस्टम, वाइव वाइव, वाइव वाइव, मेदिनीव रोग मौसम में मौसम के अनुसार। विक्रांत को बनाने में 20 हजार करोड़ का खर्चा पूरा। विक्रांत 50

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button