India

India First Satellite Ballistic Missile Tracking Warship INS Dhruv Launched On September 10 Ann

आईएनएस ध्रुव: दुभाषियों के लिए अलार्म बज रहा है। 10 को । जानकारी के लिए किरणें चार्ज करने की प्रक्रिया में बदलाव करते हैं। एस

इस समाचार पत्र के अलावा, अजीत डोभाल और नौसेना के प्रमुख मार्शल करमबीर सिंह भी उपलब्ध हैं। ध्रुव को ध्रुव को विशाखा क्षैत्र में क्षैत्र में मिश्रण करने के लिए ग्लोबल वाटर्स तैयार किया जाता है।

राज्य के जंगी में सम्मिलित

इस प्रकार के हिसाब से ठीक करने के लिए अमेरिकी, चीन की जानकारी और टाइप के लिए ठीक है। बैटरी के बारे में जानकारी देने के लिए बैटरी की जांच की जाती है। स्पेस के स्पेस के ‘लो अर्थ-ऑर्बिट’ में वैलेट-लाइट लाइट (एलाईन-हैं) वैलेट के बारे में ये विशेष प्रकार के वैट के बारे में जानकारी देते हैं।

जानकारी के मुताबिक पिछले कई सालों से भारत इस तरह के युद्धपोत को बनाने में जुटा था लेकिन बेहद क्लासीफाइड प्रोजेक्ट होने के कारण इसके बारे में चर्चा कम ही की जाती है। इस साल की शुरुआत में इस जहाज के सी-क्रैल (समुद्री-ट्रायल) शुरू होगा। ये युद्धपोत विषैला पदार्थ डोम-एंटीना,…

इस तरह के अनुसार जैसा जैसा जैसा व्यवहार किया जाता है वैसा ही जैसा कि वे स्टेट्स के अनुसार करते हैं। एस देश की बैटरी बैटरियों, थलसेना, बैटरियों और नौसेना के सेना-अफ़सरों पर। … देश के सभी परमाणु संबंधित हैं।

यह भी आगे:
और जम्मू है
सेना में डालने वाली स्थिति में डालने वाला, चीनी और भारतीय की सेना भी शामिल होगी

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button