Panchaang Puraan

सुख समृद्धि चाहिए तो करें स्त्रियों-कन्याओं का सम्मान, कृपा बरसाएंगी मां

अष्टमी का दिन मां दुर्गा कोन है। हरभक्त को यह महसूस होता है कि वह प्रेम से पीड़ित है और जीवन से दुख की बात है। सच्चे मन से स्मरण करने मात्र से ही मां दुर्गा प्रसन्न हो जाती हैं। मां की उपासना से नकारात्मक शक्तियां दूर होती हैं। मनोविकार पूर्ण होते हैं। घर में कुछ ऐसा कर सकते हैं जो हम कर सकते हैं दुर्गा की कृपा प्राप्त कर सकते हैं।

माँ दुर्गा की विशेष विशेषता है। मे को तुलसी दल और दूर्वा कीटाणु है। घर की पूजा के स्थान पर माँ दुर्गा, माँ सरस्वती और माँ सरस्वती की स्थापना के लिए पूजा की स्थापना की गई। माँ की कृपा से घर में सुख-समृद्धि का वास है। प्रसन्नता के लिए दुर्गा सप्तती का पाठ करना शुभ है. नियम देवी माँ को लाल रंग प्रिय है। इसलिए मां की पूजा के समय लाल रंग के वस्त्र और माता रानी को लाल रंग के वस्त्र पहनाते हैं। घर की संतानों को मान-सम्मानित करने से माता दुर्गा घर में सुखी होती हैं। जरूरतमंदों को भोजन और वस्त्रों का दान करने से भी देवी मां प्रसन्न होती हैं। प्रसन्नतापूर्वक क्रिया करने से आपको यह भी प्रसन्नता होगी। अष्टमी का उत्सव मनाने वाली मां दुर्गा पूजा कर रही हैं। देवा माँ की पूजा-आरांच के बाद प्रसाद के रूप में गाय के दूध और प्रभाकर का भोजनालय। घर में धूप-दीपावली। अष्टमी को माता का व्रत रात्रि जागरण करें।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

.

Related Articles

Back to top button