Panchaang Puraan

ravivar ke upay surya dev totke remedies how to get blessings of surya bhagwan – Astrology in Hindi – रविवार को कर लें ये छोटा सा उपाय, दुख- दर्द होंगे दूर, खूब मिलेगा मान

हिन्दू धर्म में हर व्यक्ति का विशेष महत्व है। यवन का दिन सूर्य को नमस्कार है। व्यवस्था-व्यवस्था से सूर्य की पूजा- क्र.सं. ज्योतिष में सूर्य देव को विशेष स्थान प्राप्त है। सूर्य देव ने कहा है। ज्योतिष , सूर्य के शुभ होने पर व्यक्ति का भाग्योदय होता है। सूर्य देव की कृपा से व्यक्ति के सभी मनोविकार प्रभावित होते हैं। सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए सूर्य देवता के रूप में वाट्सएप करना चाहिए. आदित्य हृदय स्तोत्र का टेक्स्ट में शुभ फल की फली होती है I आगे, श्री आदित्य हृदय स्तोत्र…

सूर्य ग्रह: वृश्चिक राशि का अंतिम सूर्य अस्त, 4 राशियों का भाग्य भाग्य

  • आदित्य हृदय स्तोत्र

ततोयुद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्त्याम्। रंकं चाग्रतो डिजायट्वाराय समुपस्थितम्
दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभयगतो रणम्। उपगम्यब्रीद राममगस्त्यो भगवनस्तदा
राम राम महाबाहो श्रुणु गुह्मं सनातनम्। येन सर्वानरिं वत्स समरे विजयिष्यसे
आदित्यहृदयं पुण्यं सर्वशत्रुविनाशनम्। जयावतं नित्यमक्षयं परमं शिवम्
सर्वमंगलमगल्यं सर्वपापप्रणासनम्। चिन्ताशोकप्रशमन्मायुर्वर्धन मुत्तमम्

रश्मिमंतं समुदंतं देवासुरनमस्कृतम्। पुजयस्व विवस्वंतं भास्करंम्
सर्वदेव डिस्ट्रक्टिवो हयेश रश्मिभावन: । ऐश देवासुरगणांल्लोकं पाति गभस्तिभि:
एष ब्रह्म च विष्णुश्च शिव: स्कंद: प्रजापति:। महेन्द्रोधन: कालो यम: सोमो ह्यपं पतिः

पितरो वसव: साध्वी ऋषु मरुतो मनुष्‍य: । वायुर्वहिन: प्रजा प्राण ग्रीष्मकाल प्रभाकर:
आदित्य: सविता सूर्य: खग: पूषा गभस्तिमां। सुवर्णसदृष्य भानुर्हिरण्यरेता दिवाकर:

हरिदश्व: सहस्त्रार्ची: सप्तसप्तिर्मीचिमान् । तिमिरोनॉमथन: शंभुत्वष्टा मार्तण्डकोंऽशुमान
हिरन्यगर्भ: शिरस्तपनोऽहस्करो सूर्य: । अग्निगर्भोदिते: शंखः शिशिरनासन:
विओमनाथस्तिमोभेदी ऋग्यजु:सामपारग: । घनवृष्टिरपां मित्रो विंध्यवीथीप्लवंगमः
आतपी मंडली मृत्यु: पिगंल: सर्वतापन:। कविर्वो महातेजा: रक्त: सर्वभवोद् भव:
नक्षत्रग्रहतारानामधिपो विश्वभावन: । तेजसामपि त्यागी द्वादशात्मन् नमोऽस्तुते

पूर्वाय गिरये पश्चिम नमद्रये नम:। ज्योतिर्गणानां पतये दिनाधिपतये नम: ..
जय जयभद्राय हरयश्वाय नमो नम:। नमो नम: सहस्त्रंशो आदित्याय नम:
नम्र वायुराय सर्गाय नमो नम: । नमः पद्मप्रबोधाय प्रचण्डाय नमःस्तु ते
ब्रह्मेशानाच्युतेशय सुरयादित्यवर्चसे । भास्वते सर्वभक्ष्य रंध्रराय वपुषे नम:
तमोघ्नाय हिमघ्नाय शत्रुघ्नायामत्तमने । कृतघ्नघ्नाय देवाय ज्योतिष पतये नम:

तप्तचामीकराभाय हरये विश्वकर्मणे। नमस्तमोऽभिनिघ्नाय रुचये लोकसाक्षिणे
नाशयत्येश वै भूतं तमेष सृजति प्रभु: । पय्यत्ष
ऐश सुप्तेशु जागृति भूतेषु परिणित: । एष चैवाग्निहोत्रं च फलं चैवाग्निहोत्रिनाम
देवाश क्रतवश्चैव क्रतुन फलमेव च। यानिनि लोकेषु सर्वेषु परमं प्रभु:
एनमापवित्कृच्छ्रेषु कान्तारेषु डरेषु च। नर: कश्तीनाथावसीदतिघव

पूजयंमेकारो देव देवं जगप्ततिम्। एत्तत्रिगुणितं जप्त्वा युद्धेषु विजयिष्यसि
अश्मिन्मे महाबाहो रकंं त्वं जघिष्यसि । एव इमुक्ता ततोऽगस्तो घड़ी स जन्मस्थलम्
एतच्छ्रुत्वा महातेजा नष्ट करना धार्यामास सुप्रित राघव प्रत्यमवान
आदित्यं प्रक्ष्य जप्वेदं परं हर्षमवाप्तवान । त्रिराचम्य शूचिर्भूत्वा धनुरादय वीर्यवान
रंकं प्रक्ष्य हृष्टाचार्य जयार्थं समुपागतम्। सर्वयत्ने महता वृतस्तस्य वधेऽभवत्
अथ रवदन्निरीक्ष्य रामं मुदितमना: परमं प्रहृष्यमान: । निशिचरपतिसंक्षयं विद्वा सुरगण मध्यमातो वचस्त्वरेति
।.पूर्ण ।।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button