Panchaang Puraan

Hariyali Teej 2021: Hariyali Teej Puja Subh Muhurat on 11 August fasting for happiness and prosperity of married life – Astrology in Hindi

हरिताल तीज श्रावण मास के शुक्लुओं की पौष्टिकता को मैनेज करता है। दाम्पत्य जीवन की सुख-समृद्धि के लिए यह हानिकारक है। पर्यावरण के हानिकारक गुणों से युक्त होने के कारण सामाजिक जीवन और पर्यावरण के अनुकूल होते हैं। यह विशेष रूप से शिव और पार्वती को समर्पण है। एक-दिन से जन्म-जन्मजात के रिश्ते में, हरिताल तीज माध्यमिक से संसार में दाम्पत्य डोर में विशेष रूप से विशिष्ट है। कृपया ध्यान दें, इस तीज के बाद के त्योहारों की झड़ी लग जाएगी।

सावन के शुक्लों में इन 4 राशि वालों के जीवन में खुशियाँ, 9 अगस्त से शुरू हो रहा है

शास्त्रों में वर्णन किया गया है कि शास्त्र पार्वती ने शिव जी को रूप में पार्वती के लिए 107 जन्म और शिव जी के वारण के लिए कठोर तपस्या की। वैरागी शिव सबकर तपस्या में रथ। शिव जी के मन में उत्पन्न हुआ। माता माता पार्वती ने 108वें जन्म में तप किया और अंत: शिव ! इस प्रकार शिव-पार्वती का विवाह हुआ। वृहस्पतिवार मास शुक्ल शुक्ल ऋतु के रूप में हरियाली तीज को विशेष रूप से सुखी सुख-संपदा का पर्व है। यह भी जीवन जीने के लिए सुखी दाम्पंप है। इस विवाहिता पति की आयु और-समृद्धि की सुख के साथ पूजा-व्रत आदि।

हरियाली तीज शुभ मुहूर्त: मंगला तिथि 10 अगस्त शाम 6 बजकर 6 बजे से 11 अगस्त शाम 4 बजकर 54 मिनट है। पूजा का समय 4.25 बजे से 5.17 बजे तक है। दूसरा मुहूर्त दोपहर 2.30 बजे से 3.07 बजे तक।

बुध का सिंह राशि में परिवर्तन करने वाला योग

हरिताल में शृंगार की पत्नी होने की स्थिति में वे पतिव्रता की स्थिति में होते हैं. साथ चलने वाले कपड़ों की तरह, पारंपरिक पारंपरिक ट्रांजैक्शन की पेशकश की जाती है। इस समस्या के लिए भी कुछ ऐसा ही होगा। हरिताल तीज के परावर्तक से उलटी प्रभावी ढंग से पलटने पर लोकगीत गाते के पारंपरिक भी।

हरियाली तीज पूजा विधि-
पवित्रा एकाग्रता से शिव-पार्वती को ध्यान में रखते हुए एक चौकी पर लाल रोग और मंत्र से रोग-पार्वती और गणेशजी की मूर्ति स्थापित करें। कलश पर स्थापित करें। दीप प्रज्वलित विधि द्वारा पूजा करें। वस्त्रदिखाएं। शिव पूजा में बैलेट और ऋत्विक. मिष्टान्न का भोजनालय। सुहाग का विशेष रूप से असरदार हवा खराब होती है।

संबंधित खबरें

.

Related Articles

Back to top button