Lifestyle

Hariyali Amavasya Makes Ancestors Happy With Three Donations 

हरियाली अमावस्या 2021: परिवार के सदस्यों के लिए विशेष गुण होते हैं। सावन के साथ श्रावणी अमावस्या भी। श्रावण मास के श्रावण के 15वें दिन के श्रावण की तिथि समाप्त हो गई है। इस दिन पवित्र स्नान और पवित्रता का महत्व है. अमावस्या के दिन के पितृों को पिंडदान, तर्पण और श्राद्ध कर्मों को जाने का नियम है। इस बार बार आठ अगस्त को दुबक श्रावणी अमावस्या परपुत से पितरों को खुश किया जा सकता है। हर मौसम में हर हाल में पर्यावरण पर हर समय कैसा रहेगा।

हरियाली अमावस्या का महत्व
श्रावण अमावस्या पर और… पितरों की शांति के लिए, पूजा पाठ, ब्रह्मणों को कार्य करना चाहिए. इस विशेष रूप से पीपल-तुलसी की पूजा करते समय। पीपल में त्रिदेवी ब्रह्मा, विष्णु और भगवान का संक्रमण है। हर प्रकाशस्तंभ पर लागू होता है I सात बजे तक प्राकृतिक रूप से तैयार हो जाता है। पितरों की शांति के लिए हरिताल अमावस्या की तारीख पिंडदान, तर्पण जैसे वैभव के लिए श्रेष्ठ है, वैभव के लिए वैसी थिथि।

हरियाली अमावस्या की तारीख और मुहूर्त
श्रावणी अमावस्या तिथि : 08 अगस्त 2021
अमावस्या तिथि तिथि : 07 अगस्त 2021, सप्तमी 07:13 से
अमावस्या रद्द करने की तारीख: 08 अगस्त 2021, 07:21 तक

विशेषज्ञता के लिए विशेष विशेषता है अमावस्या
बीमा के लिए हरीली अमावस्या विशेष संबंधित है। किसान इस एक-एक-साथ-साथ खुशहाली के लिए भी अच्छे काम करेंगे।

आगे

सावन २०२१: श्रीराम ने तैव शिवलिंग, पूजा से एक करोड़ गुना अधिक फल

कामिका एकादशी व्रत: कामिका एकादशी व्रत का रंग का विशेष्म्य,

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button