Lifestyle

Guru Vakri 2021 Jupiter In Aquarius Lord Of Sagittarius And Pisces When Guru Margi Know Date And Time

बृहस्पति वक्री 2021: कुंभ राशि में गुरु गोचर हैं। इस समय गुरु वक्री हैं। नि पंचांग के वर्तमान समय में चार ग्रह वक्री हैं. गुरु के साथ शनि देव भी मकर राशि में हैं। इसके ज्योतिष के हिसाब से ग्रह ग्रह वक्री रहते हैं.

गुरु वक्री 2021 (गुरु वक्री 2021)
ज्योतिष के हिसाब से ग्रह ग्रह 20 जून 2021, ग्रह को बृहस्पति यानि गुरु, कुंभ राशि में वक्री हो गए हैं।

गुरु मार्गी 2021 (गुरु मार्गी 2021)
कुंभ राशि में विराजमान गुरु पंचांग के अनुसार 14 2021 कोम मार्गी. ये समय कुछ समय के लिए, गुरु पूर्ण रूप से 18 2021, मंगल को प्रातः 11 बजे मार्गी होगा।

गुरु का स्वभाव
ज्योतिष शास्त्र में गुरु को शुभ ग्रह की श्रेणी में रखा गया है। इसी तरह से भी प्रभावी है। गुरु को ज्ञान का कारक प्रभावित हुआ है। गुरु शुभ होने पर विशेष सूचना का ज्ञान होता है. उच्च शिक्षा प्राप्त करना है। गुरु ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह ग्रह बदल गया।

धनु और मीन राशि के स्वामी, गुरु
धनु और मीन राशि के स्वामी गुरु. गुरु की उच्च राशि मकर राशि, मकर राशि मकर है। इसके सु पुन: पुन: विशाखा और पूर्वा भाद्रपद को गुरु का ग्रहण किया गया है। जन्मकुंडली में विष्णु भगवान विष्णु की पूजा करना चाहिए। बृहस्पति के विष्णु की पूजा करने से पहले आपको ऐसा करना पड़ता है।

गुरु के उपाय (बृहस्पति उपचार)
ज्योतिष गुरु इन को प्रबल होने के लिए प्रबल होते हैं, मारते हैं गुरु के उपाय-
गुरुजनों का सम्मान करें।

  • गलत से दूर दूर।
  • धन का लोभ नहीं होना चाहिए।
  • लहसुन और चंदन का तिलक तत्व।
  • पूर्णिमा की तारीख पर सत्यनारायण की कथा।
  • अध्यापन सामग्री का दान।

गुरु के मंत्र (गुरु के मंत्र)

  • बृं बृहतये नम:
  • ॐ ग्रां घरं ग्रौं स: गुरवे नम:
  • ॐ भगवते वासुदेवाय नम:

यह भी आगे:
चाणक्य नीति : लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए ये काम, जानें आज की चाणक्य नीति

मिथुन राशि में बुध: बुध ग्रह को मजबूत बनाने के लिए 14 जुलाई को ये उपाय, मिथुन राशि वाले व्यक्ति विशेष ध्यान दें

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button