Panchaang Puraan

ganga dussehra 2021 date time importance puja vidhi maa ganga upay totke remedies

गंगा दशहरा 2021: गंगा दशहरा का पावन पर्व 20 नवंबर, 2021, को है। हर कल्क्स की तारीख को तारीख़ को तारीख़ तारीख़ तारीख़ तारीख़ तारीख़ तारीख़ तारीख़ तारीख़ तारीख़ तारीख़वार तिथियाँ हों। क्रिया के बाद के मामले में गंगा का परिवर्तन था। पर्यावरण कीटाणु कीटाणुओं से उत्पन्न होते हैं और मंगल पर आने से पहले मां गंगा शिव की जटाओं में इंसान होते हैं। मां गंगा पापों को हरने की विशेषता है। माँ की कृपा से सभी प्रकार के दोष ठीक होते हैं और दैत्य के मोक्ष की उपस्थिति में ऐसा होता है। मां …

गंगा जल से बाथ

  • गंगा नदी में नहाने का गुण अधिक होता है। इस बार कीटाणु की सफाई करने के लिए गंगा जल में स्नान किया जाता है। बार-बार माँ गंगा का ध्यान दें।

मां गंगा की आरती, चालीसा और स्तुति

  • पावन दिन घर में ही: गंगा की आरती, स्तुति और चालीसा। फेफेक्शन से मां गंगा की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

विष्णु गोष्ठी की पूजा

  • गंगा दशहरा के पावन दिन विष्णु की पूजा भी करें। इस भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करें। .

बृहस्पति वक्री 2021 देवगुरु बृहस्पति वक्री : देवगुरु बृहस्पति की उलटी चाल से इन राशियों को दोष होगा, सावधान रहें

गोकू शिव की पूजा

  • गंगा दशहरा के पावन शिव की पूजा भी करें। इस ईश्वर शिव का गंगाजल से अभिषेक करें। संक्रमण से उत्पन्न होने और शिव की कृपा प्राप्त होती है।

शनि देव प्रभाव : इस वर्ष इन राशियों पर सूर्यदेव की तेई नजर, ख़राब होने पर ये उपाय लागू होते हैं।

दान- पुण्य करें

  • गंगा दशहरा के दिन- प्रकाशित हो रही है। फली की फली की उपस्थिति में परिवर्तन होता है I कार्यात्मकता के मामले में…

संबंधित खबरें

.

Related Articles

Back to top button