Panchaang Puraan

Ganesh Chaturthi 2021: This is the exact date of Ganesh Chaturthi note lord Ganesha puja vidhi and subh muhurat – Astrology in Hindi

गणेश चतुर्थी 2021: हिंदू धर्म में गणेश चतुर्थी का विशेष महत्व है। भाद्रप मास के शुक्लों की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी हैं। सभी देवों में प्रथम आराध्य देव श्रीगणेश की पूजा करने और उन्हें प्रसन्न करने का त्योहार इस साल 10 सितंबर से शुरू हो रहा है। ️ दिन️ दिन️ दिन️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, गणेश की कृपा से सुखी-शांति और सौभाग्य की बैठक होती है। पर्यावरण कि गणेशी के शरीर में आंतरिक रूप से वर्ण होते हैं। रंग तैयार किया गया है।

गणेश चतुर्थी 2021 प्रतिपू का शुभ मुहूर्त-

गणेश चतुर्थी का शुभ दोपहर 12:17 बजे शुरू और शाम 10 बजे तक।

गणेश चतुर्थी के दिन

पर्यावरण की दृष्टि से यह सही है। अगर भूलवश चंद्रमा के दर्शन कर भी लें, तो जमीन से एक पत्थर का टुकड़ा उठाकर पीछे की ओर फेंक दें।

गोकू को गणेश भोज-

गणेश जी को समूह में रखा गया है। ???? गणपति जी को कीटाणु ने कीटाणु नें गणेश उत्पन्न किया और पेश किया।

गणेश चतुर्थी पूजा विधि (गणेश चतुर्थी पूजा विधि)
गणेश चतुर्थी के दिन प्रीतरु काल स्नान-ध्यान द्वारा गणपति के व्रत का संकल्प लें। गणपति की सुंदरता के बाद फिर भी फिर गणेश जलजलाहट के बाद गणेश का आह्वान। गौक को गणेश पुष्पम, सिंदूर, जनेऊ और दूर्वा (घसा)ए। गणपति को मोदक के लड्डू, मन्त्रोच्चाचार से पुप्‍प करें। गणेश जी की कथा पढ़ें या नहीं, गणेश चालीसा का पाठ और अंत में आरती करें।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button