Breaking News

ganesh chaturthi 2021 : shubh muhurat ganpati puja vidhi mantra vinayaka chavithi today images ganesh photo aarti – Astrology in Hindi

गणेश चतुर्थी 2021 : आज में गणेश चतुर्थी का मौसम जारी है। आज से गणेशोत्सव शुरू और 19 अनंत चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन। आज ब्रह्म और सूर्य योग में गणपति स्थापित करें। गणेश चतुर्थी के दिन गणेश की विधि-विधान से पूजा की जाती है। बजकर 17 बजकर 17 मिनट पर पवित्र मुहूर्त से शुरू होगा और रात 10 बजे तक गणेश का शुभ समय होगा। इस साल गणेश चतुर्थी पर भद्रा का साया. चतुर्थी के दिन 11 बजकर 09 से 10 बजकर 59 मिनट तक पाताल निवास भद्रालेख। जन्म के समय, भाग्योदय का योग होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, गणेश चतुर्थी के गणेश की गणेश की कृपा से सुख-शांति और सौभाग्य की उत्पत्ति होती है।

गणेश चतुर्थी शुभ मुहूर्त : गणेश चतुर्थी शुभ मुहूर्त
०३:३१ से सुबह 05:17
अभिजित मुहू- सुबह 11:53 से दोपहर 12:43
विजय मुहूर्त- सुबह 02:23 से सुबह 03:12
गोधूलि मुहूर्त- शाम 06:20 से शाम 06:44
अमृत ​​काल- 06:59 ए एम से 08:28 ए एम
सूर्य योग- सुबह 06:04 से दोपहर 12:58

गणेश चतुर्थी 2021: गणेश चतुर्थी पर श्रीपति के जन्म से ये कथा, मनोकामना होने वाले होने की है।

पूजा-विधि
ऐसा करने के लिए जल्दी उठें।
स्नान के बाद के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
इस दिन गणेश की स्थापना की गई है।
गणपित का गंगा जल से अभिषेक करें।
गणपति की स्थापना करें।
इस दिन व्रत भी।
गणेश पूजा में सबसे पहले गणेश जी का चिह्न चिह्न चिह्न चिन्हांकित है। गणेशजी पूज्य देवता हैं, इस शुरुआत में खुद को स्थापित करने की आदत है।
गुत्थी को पुष्पांजलि।
गोकू को गणेश दूर्वा भी। फलाहार के अलग-अलग अंदाज़ के अनुकूल प्रकाशमय।
गोकू को गणेश सिंदूरी।
गूका का गणेश ध्यान दें।
गणेश जी को भोग भी। आप गणेश जी को मोदक या लड्डूओं का भोग भी लगा सकते हैं।
गोकू गणेश की आरती जरूर करें।

गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं 2021 : गणेश चतुर्थी के स्वर्ण पर सुंदर तस्वीरें, उद्धरण, शायरी, प्रेम पर्व मिशन

सामग्री सूची
गणेश गणेश की प्रतिमा
लाल वस्त्र
दूर्वा
जनेऊ
कलश
कोनी
पंचामृत
पंचमेवा
गंगाजल
रोली
मौली लाल
पूजा के समय ऊ गण गणपतये नम: मंत्र का जाप करें। प्रसाद के रूप में मोदक और लड्डू फ्राई करें।

गणपति बप्पा कोभोर भोज-
गणेश जी को समूह में रखा गया है। ???? गणपति जी को कीटाणु ने कीटाणु नें गणेश उत्पन्न किया और पेश किया।

गणेश चतुर्थी 2021: गणेश चतुर्थी आज, गणपति बप्पा की पूजा में इन का ध्यान

गणेश जी की आरती

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पापा महादेवा।।

एकदंत, दयावन्त, बंध्याचारी,
मैं सिन्दूर सोहे, मौस की आदत।
पान पेये, फूले प्रसाद और प्रसादी मेवा,
लड्डूअन का भोजनालय, सन्त सेवा।। ..
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा।
माता जाकी पार्वती, पापा महादेवा।।

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया,
बंझन को पौत्र, निरधन को माया।
‘सूर’ श्यामा शरण, सप कीजे सेवा।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ..
माता जाकी पार्वती, पापा महादेवा।

दीन की लाज, शंभु सुतकारी।
सुन को पूर्ण करो जय बलिहारी।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button