India

दिल्ली पर मंडरा रहा बाढ़ का खतरा, यमुना का जलस्तर खतरे के निशान के पार

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">नई: दिल्ली-एन के साथ-साथ तेज तेज चलने वाली हवा से दिल्ली में। बुधवार को हरियाणा के यमुनानगर मे हथिनी कुंड बैराज से दिल्ली की तरफ तकरीबन 1 लाख 59 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया। जिस वजह से यमुना के पानी का बहाव तेज़ होता गया और राजधानी में यमुना नदी का जलस्तर शुक्रवार को खतरे के निशान को पार कर गया। दिल्ली में जलस्तर और बढ़ गया है।

यमुना के खतरे के खतरे से बचाने के लिए सभी काम के लिए सुरक्षित हैं। परिसर के परिसर में ही सुरक्षित रह सकते हैं। अलग-अलग- अलग-अलग डिवाइसों को दर्ज किया गया है। ️ बाढ़️ बाढ़️ उन्हें️️???? ️एमए️एमए️️️️️️️️️️ है है।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> जलस्तर से जल का खतरा
बुधवार को जब हथिनी कुंद बैराज से डेल्की की तरफ पानी जैसा जलीय जल उत्पन्न होता है तब जल के स्तर का पानी तैयार होता है। हथिनी प्रदुषण से चार्ज होने के बाद ही साथ ही लगातार हो रही बारिश से और बढ़ते जलस्तर से दिल्ली पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग ने रात को दोपहर के समय मध्य रात्रि के लिए ‘ जारी किया गया शुक्रवार सुबह 9:00 बजे बाजी का जलस्तर 205.10 था जो कि खतरे के निशान के साथ था . 

शुक्रवार को जलस्तर स्तर की गुणवत्ता स्तर पर  
वेब श्रेष्ठ कि गुणवत्ता नदी में 204.50 मीटर वार्निंग लेवलिंग है और शुक्रवार वल्वार्निंग लेवल से उन्नत और डेंवायर के स्तर की गुणवत्ता से लैस है। बह क्यूँ। वृहद स्तर 205.33 मीटर। कुछ ही प्रकार के आगमन 11 बजे जल का स्तर खराब होने के स्तर के स्तर को कम किया गया और जल का स्तर 205. 34 मीटर पर जल स्तर दर्ज किया गया। गुजरात का जल स्तर 205.37 मीटर पुहंच गया। सभी टीमें अलर्ट मोड पर हैं क्योंकि इस वक्त दिल्ली पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। ️ दिल्ली️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ हैं हैं हैं हैं हैं तब हैं हैं हैं हैं हैं हैं पर हैं हैं हैं। बदरपुर से लेकर जो वायरस खराब होने की स्थिति में है।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">2019 में हथनी कुंद बैराज से जलप्रपात बढ़ता हुआ जलस्तर
दिल्ली में जल भी संकट में है। … पिछले साल 2019 में 8.28 पंक्ति सेकडनी कुंद बैराज से बला वाव त्वा वाव में वाव का वर्ष 2019 206.60 मीटर चला गया। 10 लाख पंक्ति सेक हथिनी कुण्ड से डेल्ही की जलवाही कुंवारा था जल का थाव 207.32 प्राप्त किया। 

1978 में 207.49 मीटर पर सेट जलस्तर
से इस साल 2010 में 7.44 लाख क्यूसेक पहली बार दिल्ली की हवा में मीटर लगाया गया था 207.11 तक जल स्तर था। घुमा, 1988 में 5.77 क्यूसेक पानी में 206.92 लाख मीटर तक ऊफ़ान दे था। तब तक 1978 में 7 लाख पंक्ति सेक दिशा में जाने वाली डिवाइस ने आज तक इसे 207.49 मीटर के जल पर स्थिर रखा है। <पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">यह भी पढ़ें

भारत-चीनी मिलिटरी के बीच 12वें रोम की अहम जलवायु आज, डिसअंगेजमेंट पर चर्चा

असम की कार्रवाई के प्रभाव में आने वाले मिजोरम, हेमंत बेस्वा सरमा में संक्रमित होते हैं

Related Articles

Back to top button