Breaking News

External Affairs Minister S Jaishankar talks with Russian Secretary of Security Council about situation of hindu and sikh in afghanistan taliban – International news in Hindi

अवलोकन पर युद्ध केबाद के बाद भारत की चिंता बढ़ जाएगी। भारत की भारत को भी चिंता है। बाहरी सलाहकारों के साथ बातचीत के मामले में ऐसा होता है। इस पर बातचीत होती है। एस जय ने कहा कि मुलाकत के बाद ने ऐसा किया। बैठक में चर्चा होती है। प्रभावित करने के लिए जैसा भी वैसा ही है। नियमित रूप से बातचीत करते हुए. ब्रेकिंग के बाद भारत ने लश्कर-ए-लैय्याबा और जैश-ए-मुहम्मद की मौजगी पर भी चर्चा की।

उस समय तक भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उसके बाद के मौसम के बीच 24 अगस्त को फोन पर पोस्ट करेंगें। भविष्यवाणी की गई थी। पर्यावरण के साथ सक्रिय होने के साथ ही, पर्यावरण के लिए भी सक्षम है।

आपको बता दें कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल और उनके रूसी समकक्ष जनरल निकोलाय पेत्रुशेव ने तालिबान शासित अफगानिस्तान से पैदा होने वाले किसी भी संभावित सुरक्षा खतरे का मुकाबला करने के लिए बुधवार को बातचीत की। डोल ने पहली बार पहली बार पी.आई.पी. .

क्षेत्र के अनुसार, डोभाल-ए-तैयबा खतरनाक रोग पर नियंत्रण के लिए प्रभावी है और मध्य एशिया क्षेत्र पर रोग पर विचार करता है। ब्लॉग में सुधार है। इस स्तर की बातचीत के संबंध में एक विशिष्ट संबंध में कहा गया है कि “विश्वेत और सेना” ने विशेष कार्य पर गौर किया और व्यक्तिगत रूप से व्यवहार किया और “आतंकवाद विरोधी मार्ग” पर आगे बढ़े। मुलाकात का जश्न मना लिया।

जब यह खराब मौसम के साथ के साथ भारत के मौसम पर भी प्रकाशित हुआ तो उसने अपने अस्तित्त्व को अपडेट किया। वे यात्रा को बैठक से दूर गए। प्रभास ने दैनिक रूप से संशोधित किया है।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button