Lifestyle

During Krishna Janmashtami Fast Water Drinking Is Prohibited After Sunset 

कृष्ण जन्माष्टमी 2021: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन विशेष महिमा है। इस दिन श्रीकृष्णजी के बाल स्वरूप कांहा की पूजा का व्यवस्था है। कुछ भगवान् कान्हाष्टमी या गोकुल अष्टमी भी कहा गया है। इस दिन व्रत रखते हुए सामान्य नियम ही लागू होते हैं, लेकिन एक पाबंदी इस व्रत को पूरी तरह अलग करती है, यह पाबंदी पानी पीने को लेकर है। इस व्रत को रखने वालों को पूरे दिन पानी पीने की छूट होती है, लेकिन सूर्यास्त से लेकर कृष्ण जन्म के समय तक निर्जल रहना होता है।

स्नान ध्यान के साथ शुरू करें
पानी भरते पानी या फलाहार तेज होने से पहले। शाम की पूजा से पहले फिर से स्नान करना चाहिए। जिस तरह से ऐसा करना मुश्किल है, वैसा ही यह है। इस समय के दौरान मौसम नजर रखें।

सेवन में महत्वपूर्ण
जन्‍माष्‍टमी व्रत में फलों का सेवन करते हैं, तो यह सही है। खरबूजे और खरबूजे जैसे वाटर टरब्यूज का प्रबंधन करें. अमरूद केला, संतरा और अमरूद भी खा सकते हैं।

संकल्प का तरीका
कुशासन पर पूर्वामृत या उत्तर की ओर। प्रभामंडल सूर्य, सोम, यम, काल, संधि, भूत, पवन, दिक्क्षपति, भूमि, आकाश, खेचर, अमर और ब्रह्मदिवस का जल, अक्षत, पुष्प, कुश और धुन्ध व्रत का संकल्प ग्रहण करना चाहिए।

14
सावन 2021 Upay: सावन समस्या हल, इस समस्या का समाधान समस्या

सावन 2021: सावन की शिवरात्रि विशेष, तिथि तिथि तिथि, मुहूर्त और पारण

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button