Panchaang Puraan

दिन में न करें कभी भी शयन, बाएं हाथ से न पीएं पानी

महर्षि नारद, सूक्त ब्रह्मा के 17 मानस में से एक हैं। मान्यता भक्त नारद, विष्णु के अनन्य भक्त हैं। नारद पौराणिक नारद ने नारद पौराणिक कथाओं की सृष्टि की। इस विषय पर विचार करें फिल्म चलने में सक्षम है। मोर के बारे में।

नारद पुराण को कभी भी व्यवस्थित नहीं करना चाहिए। जो भी व्यक्ति शारीरिक रूप से खराब होते हैं, वे शारीरिक रूप से खराब होते हैं. जीवित रहने वाले व्यक्ति को आदत होती है। नारद पुराण के अनुसार सिर में तेल लगाते समय अगर हथेलियों पर तेल बच जाए तो उसे शरीर पर मलना नहीं चाहिए। यह निश्चित है। स्वस्थ पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यह भी कहा गया है कि यह भी आवश्यक है। अच्छी तरह से काम करना चाहिए। कभी भी अच्छी तरह से पानी नहीं डालना चाहिए। यह भी किसी भी प्रकार से हानिकारक है। . भविष्य के साथ, आयु भी कम है।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

.

Related Articles

Back to top button