Panchaang Puraan

Diwali 2021 Date in India: When is Deepawali in the year 2021 Know the worship Muhurta of Maa Lakshmi puja vidhi and bhog – Astrology in Hindi

हिन्दू धर्म दिवाली के त्योहारों का विशेष महत्व है। हिंदू पंचांग के शुक्ल पक्ष की तारीख, कार्तिक मास की कृष्ण तिथि की तिथि को या दीपावली को तिथि समाप्त हो जाएगी। इस साल मुबारक अमावस्या 04 इस शुक्रवार को। माँ लक्ष्मी और गणेश की विशेष पूजा-संस्थान की व्यवस्था है। मान्यता है कि दिवाली पर मां लक्ष्मी की विधि पूर्वक पूजा करने से सुख-समृद्धि और यश की प्राप्ति होती है। जीवन में कमी नहीं है।

2021 में दिवाली है?

2021 में दिवाली 04 नवंबर 2021 को है।

अमावस्या कब तक-

अमावस्या 04 नवंबर की तारीख से सुबह 06 बजकर 03 से रात्री 05 तारीख को सुबह होगी। लक्ष्मी पूजन मुहूर्त 06 बजकर 09 दिवाली से शाम 08 बजकर 20 तक। पूजा समय 01 55 की.

पूजा कैसे करें-

– प्रदर्शन का संकल्प लें
– श्रीगणेश, लक्ष्मी, सरस्वती जी के साथ कुबेर का प्रतिपुष्टि
– ऊँ श्रीं श्रीं नम: का 11 बार या एक मलिक का जाप करें
– एक क्षी कोनी या 11 कमलगट पूजा स्थल पर
– श्री यंत्र की पूजा करें और उत्तर में प्रतिष्ठापित करें, सूक्तम का पाठ:

आपकी राशि का गोचर-

️ दिवाली️ दिवाली️ एक-एक युग्म की युति इस राशि में। मंगल ग्रह पर मंगल, मंगल और विराजमान मंगल दोष। ज्योतिष शास्त्र में सूर्य को ग्रहों का राजा, मंगल को ग्रहों का सेनापति, बुध को ग्रहों का राजकुमार और चंद्रमा को मन का कारक माना गया है।

माँ लक्ष्मी को भोग भोज-

में लक्ष्मी जी की पूजा में सिघाड़ा,अनार, श्रीमानस कर सकते हैं। दीवाली की पूजा में सीताफल को भी शुभ है। आंतरिक दिवाली की पूजा में कुछ भी हैं। मां लक्ष्मी को सिंघाड़ा भी पंसडा है। मिष्ठान में माँ लक्ष्मी कोसरभात, चावल की खीर के समान, हलवा आदि पसंद करते हैं।

.

Related Articles

Back to top button