India

Delhi University News: किरोड़ीमल कॉलेज के प्रोफेसर के 'मार्क्स जिहाद' वाले बयान पर विवाद, विरोध में उतरे छात्र

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">किरोमल कॉलेज में प्रोफेसर प्रोफेसर ने दो दिन सोशल मीडिया पर सोशल मीडिया पर 100 प्रतिशत अंक अर्जित किए। खुला राकेश कुमार ने सोशल मीडिया पर लिखा, "एक कॉलेज को 20 प्रतिशत अंक के हिसाब से यह 26 प्रतिशत अंक में आया था। कुछ वर्षों से केरल बिल कर रहा है – मार्कर्स जिहाद।" 

कांग्रेसी शंकर शाशिर ने राकेश कुमार के सोशल मीडिया पर पोस्ट किया।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> सामाजिक संगठन (आरएसएस) से निपटने के लिए आपस में संबंधित कार्यकर्ता (एसटीए) के साथ संबंधित शिक्षक () परिसंयोजन है। माईशक है कि कैरल बोर्ड के ये सभी विद्यार्थी स्वस्थ हों, वो भी 100 प्रतिशत प्राप्त करने वाले हैं। 100 पर और 99.9 में भी। जेहादी खराब होने वाले को खराब कर दिया गया है जो जेएनयू में अपडेट किए गए हैं। जेहादी और फाईटेन्टिएट, ये एक ही फ़ीटगरी के हैं। और ये भी। इतिहास की रिपोर्ट है। जिहाद धर्म विशेष शब्द है।

कॉन्ग्रेस ने इसे परिभाषित किया। पहले मामले को ध्यान में रखना चाहिए। डीयू में कभी-कभी, गणित से बिगड़े हुए गणित वाले व्यक्ति। लेकिन उनसे किसी साजिश की बू नहीं आती है। मेरी मुल्य में बातचीत होने के कारण। हालांकि, किसी के चयन पर कोई भी संदिग्ध नहीं है।

स्टाइल="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> उन्होंने ️ साफ️ साफ️उन्होंने️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ लेकिन छात्रों में इसे लेकर गुस्सा है। कांग्रेस न्यूट्लॅन्ज न्यू एंटाइटेलमेंट्स इंडिया (NSUI) और nbsp; एबीवीपी भी 100 प्रतिशत कट ऑफ कर रहा है। एबीवीपी ने 100 प्रतिशत कट ऑफ डीयू समन्वय का पुटला फुंका। NSUI दिल्ली के अध्यक्ष, कुणाल सेहरावती शिक्षक का काम को सीखना है, उसका बिल बनाना है। यह गलत है। ये दिल्ली में ठीक काम करने वाले कामों को ठीक करते हैं या नहीं. 

केले बोर्ड पर रिपोर्ट्स के हिसाब से ऐसा होता है। केरल के डिविज़न "हम डेटाबेस के लिए सक्षम हैं। हम देश विरोधी हैं।" केरल के एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि ऐसी अनोखी बातें हैं, हम कभी भी ऐसे व्यक्ति हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर योगेश सिंह का किरोडीमल कॉलेज के प्रोफेसर के कार्यक्रम से उठने पर यह कहा जाता है कि यह सही है। साथ ही यूजी कोर्स के लिए 100 प्रतिशत कट ऑफ को एंट्रेंस को साफ किया जाएगा। कहा, "लगा है, I ️ । कई बार ऐसा हो सकता है. आज ये कह सकते हैं।"

दिल्ली विश्वविद्यालय की स्थिति ठीक वैसी ही स्थिति में है जब ठीक होने के साथ ही वे ठीक हो रहे हों। डूटा के अध्यक्ष राजिद रे ने संपूर्ण को विशेषज्ञ की राय दर कर कर दिया। साथ ब्लॉग

Related Articles

Back to top button