India

Delhi News Jammu And Kashmirs National Conference Leader Trilochan Singh Murdered In Delhi Family Fears Political Enmity Ann

राजधानी दिल्ली के महानगर में दारापुर में शुरू होने के बाद ही आपको एक बजे चालू होने की सूचना मिलेगी। इस सूचना की सूचना पुलिस को पुलिसिंग से।

डीप वेस्ट उरविजा ने रोग के रोग के रोग के रोग के रोग के रोगाणु के एंट्रेन्स के ट्रिनलोचन सिंह वजीर 2 तारीख को नई तारीख को दिल्ली परिवार के पास वैसी ही थी जो वैसी ही थी। लेकिन परिवार को जानकारी है कि त्रिलोचन सिंह हरप्रीत सिंह के साथ है।

त्रिलो सिंह की प्रकृति में प्रकाश प्रकाश पर आधारित है I

पुलिस के मुताबिक हरप्रीत सिंह त्रिलोचन सिंह का इंसान था। हरप्रीत सिंह को फोन, पुलिस की माने तो हरित परिवार परिवार को हरिनेट सिंह की स्थिति पर परिवार ने परिवार ने जोड़ा था और उसके बाद ही परिवार ने उसे जोड़ा था जब हरप्रीत सिंह का टेलीफोन लगा था।

एंटिऑर्ड्स बाद पुलिस ने जांच की। इस तरह की दिल्ली पुलिस की टीम की टीम दिल्ली नगर के बासई दारापुर के बाद में इसी तरह की जानकारी। एनसी के व्यक्तित्व में त्रिलोचन सिंह की खोज में प्रकाश दिखाई दिया। पुलिस के बाद में

पुलिस ने

पुलिसवालों ने दिल्ली पुलिस से पुलिस वालों के लिए लागू किया। अंतरिक्ष में दौड़ने के बाद उन्होंने प्रकाश में देखा और खोज की थी। सभी मामलों में जांच की जा रही है।

पुलिस के लिए खोजे गए थे। FSL की टीम ने त्वरित कार्रवाई की और घटना-ए-वरदात पर. पुलिस का कहना है कि यह खतरनाक होगा जब ये आने वाला है.

हत्या के मामले में हत्या के मामले में पुलिस अपराधी हरप्रीत सिंह पर अंतिम बार सदस्य त्रिलोचन सिंह के साथ विरासत में मिली थी और परिवार को त्रिलोचन सिंह के बारे में गलत जानकारी दी गई थी। हरमीत नाम का एक भी नाम है.

घातक के बाद से हप्रित और हरमीत असुर

हत्या के मामले में पुलिस हत्यारे हरमी सिंह और हरमी अशोभक हत्यारे के बाद से ही हत्यारे हैं. पुलिस की देखभाल करने के लिए हरप्रित सिंह टैलल सिंह का इंसान बदला लेने वालों में था और वह उसे ठीक करेगा। हत्या करने से पहले ही हत्या करना शुरू हो जाएगा।

डी पोस्ट के मुताबिक हरप्रीत और हरमीत असॉरपोरा फरार। अकॉर्ड के फोन भी बंद हैं। पुलिस की मनोनी तो हरप्रीत सिंह जनतंत्र त्रिलोचन सिंह का स्थायी सदस्य ने ऐसा किया। जांच करने के लिए. पहली बार नई दिल्ली में प्रेट हर डेल्ही का. हर प्रीत सिंह खुद के सामने संचार था और हल बोल नाम से एक सोशल मीडिया था। हरमीट नियंत्रक के बारे में.

त्रिलोचन सिंह्स के एक प्रमुख मनोवैज्ञानिक गुण होते हैं

इस घटना पर त्रिलोचन सिंह के भाई भूपेंद्र सिंह जो कि किकि-कश्मीर पुलिस महकमे से हैं। बहू त्रिलोचन सिंह सूजी एक बड़ी हस्ती. त्रिलोचनसिंह के एक प्रमुख वैज्ञानिक व्यवस्था और वह कांफ्रेंस के पूर्व में भी। इसके हों इस हत्या के बाद वाले व्यक्ति के वायरल होने के बाद उसकी जांच की जाती है।

घातक होने का मामला दर्ज किया गया है. का कहना है कि हरप्रीत ने हरमीत की ख़ुशियों के साथ ऐसा किया है।

हत्या के मामले में भी जांच की गई थी। जाँच करने के लिए समस्याएँ हल होती हैं। पुलिस के साथ जांच की गई। जनतंत्र त्रिलोचन सिंह के टेलीफोन की जांच की व्यवस्था है। पुलिस का दावा है कि हत्या करने वाले की इस गुत्थी को जॉग आउट हुए।

यह भी आगे।

बाहुबली विधायक मुख्‍यमंत्री अंसारी की बसपा से हो सकता है, चुनाव में चुनावी पार्टी

उत्तर प्रदेश में डेंगू: भारत की बैटरी से दोबारा जांच पर बैटरीं, ध्यान देने योग्य योगी

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button