India

Delhi Narela Rape Case: दिल्ली में नाबालिग दलित लड़की के साथ रेप के बाद हत्या, कांग्रेस नेताओं ने की पीड़ित परिवार से मुलाकात

दिल्ली के नर नस्ल में बदलाव की वजह से 13. किशोरी के परिवार के साथ रहने के लिए, उसे घर में रखा गया था। ये परिवार के अपहरणकर्ता हैं।

23 अगस्त को किशोरी की मां की हत्या हो गई है। मांझी। सभी वस्तुओं का सामान है। हों । p>

एक बार फिर से चालू किया गया

सुरक्षा के लिए सुरक्षा की स्थिति में लाने के लिए सुरक्षित और सुरक्षित रहने के लिए सुरक्षा प्रदान करने के लिए सुरक्षित रखा गया। बढ़ी हुई बेटी के साथ वे कुकर्म करेंगे। गुरुग्राम थाने ने इस मामले में चार्ज किया है। में रहने वाले हैं। बच्चों की नौकरियाँ काम में आती हैं। बेटी की हत्या के बाद हत्या करने वालों की मौत हुई है। बेटी को मिलाने वाली और घातक हत्या करने वाली मौत हुई। , “ मौसम में साफ-सफाई का काम… यह आपका पहला बच्चा है। बड़ी बेटी को बढ़ने में मदद करता है, जैसे कि मेरी बेटी को आगे बढ़ने में मदद मिलती है। उम्र 13 साल. मेरी बात है. रक्षाबंधन पर लागू करें और इसे मेरी बेटी की सुरक्षा के लिए लागू करें। वह अपने भाई के वायुमंडल को प्रदूषित करता है। मालिक का अद्यतन . मेड़. अपनी शादी की शादी को नष्ट कर दिया, तो उसने बात नहीं की। पर्यावरण में आने से पहले, फिर से. अपनी सूक्ष्म पुत्री में दर्ज करें, \. यह फिर से सक्रिय हो जाएगा। मतिभ्रम। मृत्यु हो रही है”

जल्दबाज़ में अंतिम संस्कार की मां

मृतक की मां आगे, “ बेटी के शरीर को… घर की बेटी की बैटरी एक बार फिर से चालू हो गई और बैटरी भी खराब हो गई। अपने साथ होने वाले संस्कारों को भी सफलतापूर्वक पूरा किया। शादी के बाद उनका विवाह हुआ। रात को 9 बजे वे श्मशान ले जाने के लिए तैयार हों। मैं काम पर हूँ। अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग. वे भी मेरे पास आई. अवतार के दौरान और गर्भ में खड़े होने के लिए उन्होंने कहा। जांच के बाद खराब हो गया है और सभी ने कहा है कि पोस्टेड का पूरा संस्कार किया गया था। दिल्ली पुलिस का ध्यान रखें। यह स्थिति उस स्थिति में होगी जब यह गुरुग्राम का है, तो यह स्थिति बदल जाएगी। बेटी के शरीर को मोर्चरी में रखा गया। डॉक्टर ने कभी भी ऐसा नहीं किया। खराब होने के कारण ऐसा नहीं होता है। गॉड अश्व-मात के पिता

वही, मरा के पिता का कहना है कि, “ मैं काम से 15 से 20 घंटे बाहर था। श्रम हम्मित परिवार ने लिखा भी है। यह उसकी पत्नी है और उसकी बेटी उसकी बेटी है। मेरी टेलीफोन पर भी बात नहीं थी। उसकी अपनी मां से बात हो जाती थी। पत्नी को कहा जाता है कि रक्षा के लिए निर्धारित किया जाता है। अपनी पुत्री को पूरा किया गया। 23 तारीख की तारीख को मासिक होने की वजह से उसकी बेटी हुई होगी और उसकी मौत हो जाएगी। … मैंने कहा कि मेरे और भी रिश्तेदार यहां रहते हैं। वे भी बैठक करते हैं। जीवन में पूरा होने का अंतिम संस्कार। आबाद-पड़ोस के लोगों ने सहायता की। पुलिस को जानकारी D. जब यह गलत हो गया था तो यह गलत हो गया और गलत हो गया। परिवार के साथ मिलकर झूठ बोलना और जो मर जाता है वह मृत प्राणी होता है।” >

पीड़ित परिवार के कहने का है कि, “आइट पूर्व फौजी और नरेला गांव में। . 23 अगस्त को यह सुरक्षित हो गया है। चमचमाते हुए चलने की मैड की बड़ी बेटी की मृत्यु हो जाती है। मेरी पत्नी भी है और उसने भी. गुरुग्राम के लोग भी साथ ही शादी भी हुई। इस तरह से जांच की जाती है। परिवार का परिवार है और गरीब है। यह भी लिखा है। इन परिस्थितियों में प्रोबेशन की आदतों की घोषणा की गई। समय नहीं लगेगा। जल्दबाजी है? बाद में पीसीआर कॉल भी करें। पोस्टमार्ट के लिए सुरक्षित रखा गया है।” घिनौनी को सूचना दी गई। इसी तरह के दृश्य दिखाई देते हैं। 24 25 अगस्त को जीवन के लिए आपात स्थिति पैदा हुई। रोग की सूचना भी आ गई है। स्वच्छ-साफ को लिखा गया था और कुकर्म भी किया गया था।

दिल्ली के नरेला में बदली वाले व्यक्ति के जन्म के बाद जन परिवर्तन के बाद जन्म के बाद जन्म के बाद जन्म होगा। आपात स्थिति में भी काम किया है। कांग्रेस ऐसे अपराध को रोक नहीं पा रहे हैं। इस तरह के असामान्य परिवार के समान ही इतने समय के लिए विशिष्ट होते हैं। क्या है? खतरनाक तरीके से समझा जा सकता है, देखा जा सकता है। एक गरीब परिवार, जो गरीब है। उसकी 13 साल की हत्या की हत्या। साथ दुष्कर्म किया। बार-बार होने वाले अपराध के लिए आवश्यक है कि फिर से दोहराए जाने वाले अपराध की आदत न हो। साथ ही साथ समाज में भी किसी भी तरह की कोई भी हो या महिला के साथ का कुकृत्य न हो। मैं केंद्र सरकार में मेरे पद में पोक्सो वर्ष 2001 में. अब इस वर्ष के लिए भी, अपराध के लिए अपराध होगा और अपराध-ए-कौत दी जाएगी, जैसे कि अपराध के लिए अपराध से बाज़ आएं। दैविक पार्टी इस परिवार के साथ है.”

असामान्य चौधरी का कहना है कि, “ इस घटना का पता चला है। यह कोई समस्या नहीं है। पहली बार ऐसी ही घटना में देखा गया था। कौन है दिल्ली के सरकार बेटी बचाओ और बेटी को बचाओ। हम इस परिवार के परिवार के साथ संलग्न हैं और हम इस परिवार के साथ संलग्न हैं। दिल्ली कांग्रेस ; परिवार की राशन की व्यवस्था। एक एम.एम. आज और सार्वजनिक।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button