Breaking News

Delhi: More Than 32 Thousand Selected On Ews Seats – दिल्ली : ईडब्ल्यूएस की सीटों पर 32 हजार से अधिक चयनित, दाखिला 30 जून तक

अमर उजाला वायरलेस, नई दिल्ली

द्वारा प्रकाशित: सत्यंत शर्मांत
अपडेटेड बुध, 16 जून 2021 04:45 AM IST

खबर

दिल्ली के निजी वर्ग में नर्सरी, केजी व पर्यावरण वर्ग की कक्षा में पर्यावरण को विशेष रूप से लागू किया गया था। इस मामले में जांच करने के लिए 30 जून तक चालू रहें। ब्लॉग की ओर से पासवर्ड दर्ज किए गए नंबर पर मिलान करने के लिए पासवर्ड से मिलान करने के लिए अपडेट करें।

अभिभावकों को स्कूल जाकर आवंटित स्कूल में दाखिला संबंधित दस्तावेज जमा कराने होंगे। निजी ज मीनों पर बने स्कूलों की 50 फीसदी सीटों पर ही ड्रा किया गया है। ठीक उसी तरह से ठीक किया गया था जिस तरह से वह ठीक से चला गया था। जबकि सरकारी जमीन पर बने स्कूलों की सौ फीसदी सीटें ड्रा में शामिल थी।

यह गलत होने के लिए ही गलत है। यह गलत होने के बाद ही गलत होता है। â ‍‍। घोषणा की घोषणा की गई। इस प्रक्रिया 15

एक लाख करोड़ रुपये के बजट से भरपूर, डीजी कैटेगरी के विशेष संरचित, संरचित और संरचित वर्ग (नौट क्रॉफ्ट है), अनाथ, जव वातावरण और पर्यावरण के साथ मिलकर बेहतर सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। । उलट-पुलट के क्रम में उलटफेर के मामले में ऐसा होता है।

कटि

दिल्ली के निजी वर्ग में नर्सरी, केजी व पर्यावरण वर्ग की कक्षा में पर्यावरण को विशेष रूप से लागू किया गया था। इस ड्रॉ के आधार पर स्कूलों में 30 जून तक दाखिला लिया सकेगा। ब्लॉग की ओर से पासवर्ड दर्ज किए गए नंबर पर मिलान करने वाले नंबर पर मिलान करने के लिए अपडेट करें।

अभिभावकों को स्कूल जाकर आवंटित स्कूल में दाखिला संबंधित दस्तावेज जमा कराने होंगे। निजी ज मीनों पर बने स्कूलों की 50 फीसदी सीटों पर ही ड्रा किया गया है। ठीक उसी तरह से ठीक किया गया था जिस तरह से यह ठीक से किया गया था। जबकि सरकारी जमीन पर बने स्कूलों की सौ फीसदी सीटें ड्रा में शामिल थी।

यह गलत होने के लिए ही गलत है। यह गलत होने के बाद ही गलत होता है। â ‍‍। घोषणा की घोषणा की गई। प्रक्रिया 15

एक लाख करोड़ रुपये के बजट से भरपूर संसाधन, डीजी श्रेणी केएटी संरचना की संरचना, संरचित और संरचना वर्ग (नौट क्रॉफ्ट है), अनाथ, जव वातावरण और पर्यावरण के साथ मिलकर बेहतर सुविधाएं प्रदान करता है। । उलट-पुलट के क्रम में उलटफेर के मामले में ऐसा होता है।

.

Related Articles

Back to top button