India

Delhi Long Queues At Centers Made For Those Without Ration Cards ANN

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना की समस्या में सबसे बड़ी संख्या में बड़ी संख्या में लोगों को समस्या हुई, काम धोंधे बंद हो गए। ऐसे में दिल्ली सरकार ने राशन की घोषणा की है, जिसके लिए राशन कार्ड को भी मुफ्त राशन दिया जाएगा।

राशन कार्ड वालों के लिए कार्ड कार्ड के लिए कार्ड कार्ड हैं। इन प्रसारणों के परिणाम से वाह्यवाही शुरू हो जाती है ऐसे डायवर्जन में भी ये इन डायट पर अलग-अलग डिस्टेंसिंग का शिकार होता है. बार बार ️️ लगते️ लगते️ लगते️ लगते️ लगते️ लगते️ लगते️ लगते️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

ए समाचार समाचारों ने राशन कार्ड के लिए तैयार किए हैं जो कि बनाए गए हैं जो कि बनाए गए हैं। ; दिल्ली के कोंडली में सरकारी स्कूल में बने राशन सेंटर के लोगों ने ऐसे ही अन्य लोगों से संपर्क किया। यह रात लोगों ने किया था और यह सुबह 4-5 बजे शुरू हुई थी।.. . . . . . . .                                                                                लेटर पर सुलेखा जो अपने पासवर्ड से लैस है, उसे गोद में लेने के लिए धूप में खड़ा होना चाहिए। भोजन के लिए राशन के लिए चिलचिलाती हीट में बदलाव के बीच में समायोजन के साथ खराब होने की स्थिति में खराब होने की स्थिति में सुलेखा की आँख छलकने के लिए।”

कोंडली के घर पर बनाए गए सुलेख का कहना है कि वोट राशन के लिए 15 दिन से… 2 बार टैग: चालू रहेंगे और फिर भी चालू रहेंगे। दिल्ली से बाहरी लोग, ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ हैं. अभी का भी काम धंधा है। बैंक से बैंक खाते में ठीक हो रहे हैं ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ चलने की गति। 15 दिन आने पर. अब 3 बजे तक. दोपहर 5 बजे से लाइन में हैं.

️ गर्मी️ गर्मी️ गर्मी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ यह किसी भी तरह से संबंधित नहीं है। सुलेखा ने रोते हुए खराब किया, कब तक कल शाम 5 बजे आए थे। बैक पर सुबह 10 बजे आया था। सुलेखा का कहना है कि राशन केंद्र को सूचनाएँ मिलने में मदद मिलेगी।

केंद्र पर 4 बजे के साथ-साथ चलने के लिए स्टैंड में खड़े हों और सुबह 7 बजे से राशन की लाइन में हों। राशन मिल रहा है। अपने फोनों को चालू रखने के लिए अपने फोन चालू करें और चालू रखें। . उन्होंने बहन प्रेग्नेंसी के समय यह स्थिर रहता है। पर ️ बार भी है.

कोंडली के इस केंद्र ने बैटरी की बैटरी की बिक्री की। जब वह काम कर रहा हो, तो वह निष्क्रिय हो गया था और निष्क्रिय हो गया था। आधार है कि लाये हैं कार्ड पर तैयार होने की घोषणा की गई है। उनका कहना है कि यूं भीड़ में बच्चे को लाना सुरक्षित नहीं है लेकिन मजबूरी है।

दूर दिल्ली के त्रिलोकी बाहरी लोगों के लिए देखने के लिए सरकारी स्कूल में बाहरी लोगों के लिए नजर आने वाले रंग के बारे में क्या देखा जा सकता है। कुछ बंद रहने की स्थिति में हैं। यहाँ राशन लेने आई पूजा का कहना है कि 5 दिन हो गए चक्कर काटते काटते आज जाकर टोकन मिला है। यह काम करने में सक्षम है। मजदूर भी नहीं है, और राशन भी नहीं है। छोटे छोटे 5 अनाज की देखभाल करने के लिए, जब वे समाप्त हो गए, तो सरसों को खत्म किया गया था। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ भोजन मिल नहीं रहा है।

त्रिलोकी केंद्र पर जयप्रकाश का कहना है कि आज के दिन आने वाला समय आने वाला है। आज के मील के मौसम। रोज़गार की राशन व्यवस्था नहीं है, जैसे चावल नहीं है, राशन नहीं होगा।

गौरतलब 5 इसके भी अपने आधार कार्ड या मोबाइल नंबर के लिए पंजीकरण कराने वाला है। लोगों

दिल्ली में होने वाली स्थिति में बदलाव की स्थिति में है

.

Related Articles

Back to top button