Breaking News

DCW chief Swati Maliwal in corruption case Charges Framed BJP Letter to LG to Remove her from Post – India Hindi News – अवैध भर्ती मामले में स्वाति मालीवाल की बढ़ीं मुश्किलें, LG से बीजेपी की मांग

ऐप पर पढ़ें

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल की उम्र बढ़ने की मुश्किलें सामने आ रही हैं। महिला अधिकार में संस्था आम आदमी पार्टी के कामकाज के मामले में स्वाति मालीवाल के खिलाफ कोर्ट के आदेश के बाद बीजेपी ने हमला बोला है। बीजेपी सांसद वर्मा ने दिल्ली के उप-राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना को पत्र लिखकर स्वाति मालीवाल को दिल्ली महिला आयोग के अध्यक्ष पद से हटाने की मांग की है।

बीजेपी सांसद वर्मा ने ट्वीट करते हुए ट्वीट किया, ”सत्ता का नशा करने वाली आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार के लिए आम बात हो गई है, हर जगह हर विभाग में धंधलेबाजी है। कल कोर्ट ने स्वाति मालीवाल के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए आदेश दिया और मैंने आज उप राज्यपाल को पत्र लिखा कि तत्काल ऐसे लोगों को पद से हटाया जाना चाहिए।”

दिल्ली के उप-राज्यपाल को लेखपाल सांसद मैं प्रवेश वर्मा ने कहा है कि मैं आपका ध्यान दिल्ली महिला आयोग के अध्यक्ष द्वारा की गई आम आदमी पार्टी के नामांकन के मामले की ओर खींचना चाहता हूं। कोर्ट ने गुरुवार को स्वाति मालीवाल, प्रमिला गुप्ता, सारिका चौधरी और फरहीन मलिक के खिलाफ आरोप लगाया है। उन्होंने पत्र में आगे लिखा, ”सर, मैं आपसे स्वाति मालीवाल पर तुरंत एक्शन लेता हूं उन्हें दिल्ली महिला आयोग के अध्यक्ष पद से उठाने की मांग करता हूं।”

जानिए क्या है पूरा मामला
आरोपित है कि दिल्ली की एक अदालत ने दिल्ली महिला आयोग (DCW) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल और अन्य के खिलाफ महिला अधिकार संस्था में आम आदमी पार्टी (आप) मामला दर्ज करने को विभिन्न पदों पर नियुक्त करने के लिए अपनी आधिकारिक स्थिति का पहला दृष्टया अपराध करने के आरोप लगाए हैं में भ्रष्टाचार और आपराधिक साजिश के आरोप तय करने का आदेश दिया है। अदालत ने आदेश दिया कि DCW की पूर्व सदस्य प्रोमिला गुप्ता, सारिका चौधरी और फरहीन मलिक पर भी मुकदमा चलाया जाए।

बीजेपी विधायक की शिकायत दर्ज हुई थी
DCW के पूर्व अध्यक्ष और भाजपा विधायक बरखा शुक्ला सिंह की शिकायत पर भ्रष्टाचार निवारण ब्यूरो का मामला दर्ज हुआ। अभियोग पक्ष के अनुसार, अभियुक्तों ने अपने अधिकारिक कब्जे को लेकर साजिश रची और आप न्यायिक लाभ के मामले में उचित प्रक्रिया का पालन करते हुए बिना DCW के विभिन्न पदों पर नियुक्त किए गए।

Related Articles

Back to top button