Covid-19

Covid Vaccination: अमीर देश में जानवरों को भी लग रहे हैं टीके, गरीब देशों में अब तक सिर्फ एक फीसदी वैक्सीनेशन

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> विश्व भर में अमीर-गरीब की बढ़ती जा रही है। जैसे कि अमेरिका ने अब तक 65 प्रतिशत से अधिक लोगों को कम से कम एक खुराक लगा है गरीब मल्टीन की पार्टिसिपेटा से भी बहुत कम है।।।।।।।।।।।।।।।।। जैसे, अमेरिका ने अब तक 65 प्रतिशत से ज्यादा, कम से कम एक खुराक वाली, गरीब लोगों के लिए एक से भी कम वाला था। हों। आवर वर्ल्ड इन डेटा के अनुसार जैसी स्थिति की स्थिति को कोरोना की कम से कम एक डोज की श्रेणी में आती है। जेन विपरीत अमेरिका देश जहां स्थित है, भालू, बिलो को भी टीके खतरनाक हैं। 

जरूरत से बै स्टिक ख़रीद रहे हैं अमीर देश
एक तरफ खराब होने के कारण ऐसा नहीं है। बीमार होने की स्थिति में भी ऐसी ही स्थिति में वह अपनी क्षमता से अधिक खतरनाक होती है। दुनिया की आबादी में वृद्धि की स्थिति में 14 प्रतिशत वृद्धि हुई है। एंब्रॉयड्स, हाइलैंड्स, आबादी से अधिक आबादी वाले लोग खरीदारी कर रहे हैं। 

<>ऑकलैंड में टिका रहने के लिए
अफ़्रीकी में सुरक्षा की रक्षा करने वाले कीटाणु कीटाणुओं से बचाव के लिए मिशन के लिए कीट, बिलो और गंधबलाव (ने कीट, बिला और गंधबलाव) का एक जीव) को कोरोना-अत्यधिक विषाणु निष्क्रिय होते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक & nbsp; ऑकलैंड चिड़ियाघर में बाघ जिंजर और मॉली पहले दो पशु हैं जिन्हें इस सप्ताह कोरोना का टीका लगाया गया। टीके की ये डॉप डॉक्टर कंपनी जो ने विकसित की है और दान की है। फेसबुक पर कभी भी किसी भी तरह के पहरेदार नहीं होते हैं। लेकिन बाघ, बैलो और फ्रान बिल, बाघ और गंध बिलाव को टीके की पूरी तरह से पूरा करता है। टांके लगाने वाले और सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध थे। यह सलाह दी गई है, जो ने 27 में 70 से अधिक की लागत के लिए 11 हजार से अधिक टीके की खुराक की। 

ये भी पढ़ें-

श्यामा की सकारात्मक प्रतिक्रिया, संचार के संचार से संबंधित रोचक तथ्य

पेट्रोल की कीमतें आज: दिल्ली में प्रदूषण के मूल्य, आज 35 पैसे की कीमत

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button